संसू सरदूलगढ़: पर्यूषण पर्व के सातवें दिन जैन सभा सरदूलगढ़ में प्रवचन करते हुए ज्योतिषाचार्य सत्य प्रकाश मुनि ने कहा कि भगवान महावीर ने कहा है कि पाप से घृणा करो, पापी से नहीं।

उन्होंने कहा कि अर्जन माली प्रतिदिन एक में एक महिला व छह व्यक्तियों की हत्या करता था, जिसने 1141 महिला पुरुषों की हत्या कर दी थी। सुदर्शन सेठ के संदेश देने पर भगवान महावीर स्वामी के चरणों में दिक्षा ग्रहण कर छह माह में ही अपने जीवन का कल्याण कर सिद्ध मुक्त हो गया था। इस लिए भगवान महावीर स्वामी कहते हैं कि पाप से नफरत करो, पापी से नहीं। पापी की आत्मा कभी भी जाग कर जीवन का कल्याण कर सकती है। उन्होंने कहा कि पर्यूषण पर्व में 90 तपस्वियों की कथा आती है। हमें इन महान आत्मा से शिक्षा लेकर अपने जीवन में उतार कर अपना जीवन सुख मई बना सकते है।

इस अवसर पर जैन सभा के सचिव वरिदर नीटा ने कहा कि 11 सितबर को जैन धर्म महापर्व समत्सरी जैन सभा पुराना बजार सरदूलगढ़ में तप त्याग के साथ मनाया जाएगा। इस अवसर पर सभा प्रधान अभय कुमार जैन, सोहन लाल जैन, देव राज जैन, राकेश जैन, रोहित जैन, प्रदीप जैन, दविदर जैन, पन्ना जैन, मास्टर कुलवंत, महिला मंडल के प्रधान सीमा जैन, युवक संघ के प्रधान पंकज जैन, सचिव रमन जैन, संजीव गोठी, संजीव जैन, धरमिदर जैन, दर्शन जैन, दीपक जैन, राम निवास, रिशव जैन, फरंगी जैन, मोती लाल, केवल जैन, खुश्बू जैन, रेखा जैन, प्रतिका जैन, कोर सैन के अलावा अन्य मौजूद थे।

Edited By: Jagran