लुधियाना, जेएनएन। दूसरों को यातायात नियमों के पालन का संदेश देना अच्छी बात है पर यह पहले खुद पर लागू करने चाहिए। ट्रैफिक जागरूकता सप्ताह में यमराज की वेशभूषा में समाजसेवी कुमार गौरव अपने साथी के साथ सड़क पर निकले। उन्होंने उन वाहन चालकों को जागरूक किया, जिन्होंने हेलमेट नहीं पहना था, सीट बेल्ट नहीं लगाई थी या फिर वाहन चलाते वक्त मोबाइल सुन रहे थे। अब जनाब मीडिया में भी छाए रहे। बीते दिनों वह खुद बिना हेलमेट के दोमोरिया पुल से जा रहे थे। इस दौरान श्री हिंदू न्यायपीठ के प्रधान प्रवीण डंग ने उन्हें देख लिया। तुरंत फोन लगाया और बोले, सोचा था यमराज बन लोगों को ट्रैफिक नियम बताने वाले खुद भी नियमों का पालन करते होंगे, लेकिन आपको देखकर अफसोस हो रहा है। लेकिन गौरव ने हेलमेट कोई और ले गया था का बहाना बना अपनी जान छुड़ाई।

----------------------------

प्रधान नूं चा लाण देओ

राजनेता हो और फोटो का शौक न हो, ऐसा कैसे हो सकता है। बस मौका चाहिए। नागरिकता संशोधन एक्ट के समर्थन में भारतीय जनता पार्टी की जिला इकाई ने कार्यक्रम रखा। आयोजन स्थल पर बड़ी-बड़ी फोटो लगी थी। खास बात यह कि प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष की फोटो के अलावा जिला प्रधान जतिंदर मित्तल की भी दर्जन भर फोटो टंगी थीं। मंच से धुआंधार भाषणबाजी हो रही थी। लोगों को नागरिकता संशोधन एक्ट पर जागरुक किया जा रहा था। अब कार्यकर्ताओं में खुसर-फुसर तो हो ही जाती है। वहां कुछ कार्यकर्ता खड़े थे और आपस में इन फोटोज को लेकर बात कर रहे थे, 'प्रधान ने वड्डियां-वड्डियां फोटोआं लगवाईयां ने इस बार। इतने में तपाक से दूसरा बोला, कोई ना यार आखिरी दौर आ, परधान नूं आपणा चा पूरा कर लैण दिओ।

----------------------------

अभी से ही माहौल गर्म

चुनाव चाहे किसी संस्था का हो या फिर एलीट क्लास क्लब का,  लेकिन इससे पहले ही अंदरखाते लॉबिंग शुरू हो जाती है। अब सतलुज क्लब के चुनाव की ही बात कर लो। इसके अध्यक्ष डिप्टी कमिश्नर प्रदीप अग्रवाल हैं। क्लब का चुनाव अप्रैल में प्रस्तावित है, पर इसके लिए अभी से माहौल गर्मा गया है। पहले तो सोशल मीडिया पर संभावित उम्मीदवारों के समर्थक ही यदा-कदा कुछ पोस्ट कर रहे थे, लेकिन इस बार तो उम्मीदवारों ने खुद ही जंग का एलान कर दिया है। क्लब के सबसे महत्वपूर्ण पद जनरल सेक्रेटरी के लिए प्रसिद्ध उद्योगपति राकेश कपूर और दूसरे महत्वपूर्ण पद उपाध्यक्ष के लिए वर्तमान संयुक्त सचिव जतिंदर मरवाहा ने ताल ठोक दी है। इन दोनों के अभी से मैदान में आने पर क्लब सदस्यों और बिजनेस से जुड़े वाट्सएप गु्रपों में मैसेजों की बाढ़ आ गई है। इससे  संकेत मिल ही गए हैं कि इस बार चुनाव रोचक होगा।

-----------

आरटीए में दलालों की मौज

मिनी सचिवालय एक ऐसी जगह है, जहां रोजाना लाखों लोग कार्य करवाने आते हैं। वहीं पर रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी (आरटीए) कार्यालय भी है। पहले इस दफ्तर की हालत बेहद खस्ता थी। पिछले कुछ वर्षो से इसका कायाकल्प तो हो गया है पर व्यवस्था अब भी लचर है। दलालों का बोलबाला है। जब डीटीओ का कार्यभार पीसीएस अनिल गर्ग ने संभाला था तो आवेदकों की सहायता व जानकारी के लिए हेल्प डेस्क बनाया। कार्यालय को सजाया गया। उनकी ट्रांसफर हुई तो हेल्प डेस्क बंद हो गया। लवजीत कलसी ने चार्ज संभाला को दलालों की घुसपैठ रोकने के लिए उन्होंने गेट पर सुरक्षा कर्मियों की ड्यूटी लगाई। इससे आवेदकों को काफी राहत मिली, दलालों पर नकेल रही। फिर कलसी का तबादला हुआ तो गेट से सुरक्षा कर्मी गायब हो गए। अब दमनजीत मान आरटीए हैं। हेल्प डेस्क तो शुरू नहीं हुआ लेकिन दलालों की मौज जरूर हो गई है। वे कार्यालय में घुसकर आवेदकों को फंसाकर ठग रहे हैं।

Posted By: Vikas Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!