दिलबाग दानिश, लुधियाना

जालंधर में पकड़े गए कश्मीरी छात्रों के बाद सभी थानों की पुलिस अलर्ट पर है। अब पुलिस ने कॉलेज में पढ़ने वाले कश्मीरी युवाओं की वेरिफकेशन का दायरा बढ़ा दिया है। पुलिस अब गली-चौराहों में भी कशमीरियों की तलाश कर रही है। शनिवार को पुलिस ने बस स्टैंड से दो कश्मीरी युवाओं को हिरासत में लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। यह दोनों ही कश्मीर के पुलवामा एरिया से बताए जा रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार इनमें से एक के मोबाइल से कश्मीर में मारे गए आतंकवादी बुरहान वानी की तस्वीरें भी मिली हैं। यही नहीं कई वाट्सएप गु्रपों में भी कई मैसेज हैं। पुलिस ने इनसे पहले शहर के एक थाने में और बाद में क्राइम इनवेस्टीगेशन एजेंसी (सीआइए) में ले जाकर भी पूछताछ की है। इसमें युवाओं ने बताया कि वह यहां पर हर साल अखरोट बेचने के लिए आते हैं। मगर उनके मोबाइल से आतंकी बुरहान वानी की तस्वीरों और कुछ मैसेज के कारण पुलिस अधिकारियों को इन पर शक हुआ और हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि युवाओं से उनके आइडी प्रूफ मंगवाए गए हैं। अगर वह इन्हें मुहैया करवाने में सफल रहता है तो उन्हें छोड़ दिया जाएगा। चौड़ा बाजार में मिला कश्मीरी, आधार चेक कर छोड़ा

शनिवार को चौड़ा बाजार में मौजूद पुलिस पार्टी ने शक के आधार पर एक मोटरसाइकिल सवार को रोका। उससे पूछताछ की तो उसने बताया कि वह कश्मीर का निवासी है। उसका आधार कार्ड लेकर मौजूद पुलिस पार्टी ने पूरी वेरीफिकेशन के बाद उसे छोड़ा। सेफ सिटी के कैमरों से भी रखी जा रही नजर

सीनियर पुलिस अधिकारियों की ओर से आदेश जारी किए गए हैं कि सेफ सिटी के सीसीटीवी कैमरों से शहर में मूवमेंट करने वाले लोगों पर निगाह रखी जाए। यही नहीं अगर कहीं भी संदिग्ध व्यक्ति दिखता है तो उसकी जानकारी पीसीआर को बताने को कहा गया है। शहर में रह रहे कश्मीरियों का एकत्र हो रहा डाटा

पुलिस शहर में रह रहे कश्मीरियों का डाटा जुटाने में लगी है। संदेह होने पर उन लोगों पर सीआइडी नजर बनाए हुए है। यही नहीं यहां काम के सिलसिले में आने वाले कर्मचारियों की पुलिस वेरीफिकेशन को भी तेज किया जा रहा है। सर्दी में कपड़े बेचने आने वाले कश्मीरियों पर भी नजर

आने वाला सीजन सर्दी का है। इस वजह से अब जम्मू-कश्मीर से सैकड़ों लोग यहां गर्म शॉल और दूसरे कपड़ों के साथ-साथ ड्राई फ्रूट बेचने आते हैं। इसलिए पुलिस की इन पर पैनी नजर रहेगी। यही नहीं पुलिस गवर्नमेंट रेलवे पुलिस, रेलवे पुलिस फोर्स से भी संपर्क में रहेगी। जम्मू-कश्मीर से आने वाली ट्रेनों से आने वाले यात्रियों की मूवमेंट पर भी पुलिस की नजर है। कश्मीरी लोगों व छात्रों पर नजर रखने के लिए ऊपर से कोई आदेश नहीं आए हैं। जालंधर हमारा पड़ोसी जिला है, जिस कारण यहां पर भी हम अपनी ओर से जांच कर रहे हैं। पुलिस वेरिफिकेशन की जा रही हैं, शक्की पाए जाने वाले लोगों से पूछताछ हो रही है।

-डॉ सुखचैन सिंह गिल, पुलिस कमिश्नर

Posted By: Jagran