जगराओं, (लुधियाना) जेएनएन। Gangsters Attack On Punjab Police : दाना मंडी में दो पुलिस अफसरों का कत्ल करने वालों तक पुलिस अभी नहीं पहुंच पाई है। हत्या आरोपितों को पकड़ने के लिए एसएसपी चरणजीत सिंह सोहल के आदेश पर छह पुलिस टीमें गठित की गई हैं। अभी तक की जांच में सामने आया है कि तस्कर अक्टूबर 2020 से ही जगराओं के नजदीकी गांव कोठे बग्गू में किराये के मकान में रहकर नशा तस्करी कर रहे थे।

बताया जा रहा है कि यह मकान कनाडा में रह रहे हरदीप सिंह का है। कोठी में पहले से भी किरायेदार रहते थे। पिछली बार जब वे गांव आए थे तो अपनी कोठी के एक हिस्से में कमरे, बाथरूम और रसोई तैयार की थी। पड़ोसी भुंट्टो को कहा था कि इस पोर्शन को किराए पर चढ़ा दें। गैंगस्टर बलजिंदर सिंह बब्बी मोगा को जब मकान खाली होने की जानकारी मिली तो उसने भुट्टो से मकान किराये पर ले लिया। इसके लिए प्रतिमाह चार हजार रुपये किराए का इकरारनामा भी हुआ।

गांव वासियों ने बताया कि उन्होंने बलजिंदर सिंह और दर्शन सिंह सहोली को यहां अक्सर आते-जाते देखा है, लेकिन जयपाल और जसप्रीत सिंह को नहीं देखा। पुलिस ने उस मकान में रेड की तो वहां ताला लगा था। पुलिस ने ताले तोड़कर अंदर मिले दस्तावेज व सामान को कब्जे में ले लिया है।

कत्ल करके जगराओं से रायकोट की ओर भागे आरोपित

शनिवार देर शाम को वारदात के बाद आरोपित कैंटर और कार लेकर पहले रेलवे लंडे फाटक की ओर गए। पुलिस को चकमा देने के लिए मोगा साइड जीटी रोड पर परदेसी ढाबे के नजदीक कैंटर को खड़ा कर दिया, ताकि लगे कि आरोपित कार लेकर मोगा की ओर निकल गए। हालांकि जांच में पता चला कि आरोपित वहां से शहर में घुस आए। यहां सुभाष गेट से होते हुए भद्रकाली मंदिर, गांव काउंके रोड से गांवों में निकल गए। आगे जाकर गांव मल्ला से बुर्ज नकलियां, तलवंडी राय और नूरपुरा क्षेत्र से होते हुए रायकोट की ओर निकल गए। जांच टीम ने क्षेत्र के सभी सीसीटीवी कैमरे खंगाले हैं, जिसमें आइ-10 कार इसी रास्ते पर दिखी है।

आइ-10 कार पर किसी और का नंबर

आइ-10 कार का नंबर लुधियाना के लुधियाना के गुरु नानक नगर में रहने वाले किसी व्यक्ति की निकला। पुलिस नंबर ट्रेस करके उक्त व्यक्ति तक पहुंची तो उसने बताया कि यह तो मेरी गाड़ी का नंबर है और गाड़ी अभी उनके पास ही है। घटनास्थल से मोबाइल डिटेल निकलवाई नई अनाज मंडी में घटनास्थल के समय उपयोग हुए सभी मोबाइल फोन की डिटेल प्रशासन ने निकलवा ली है। अब इन्हें ट्रेस किया जा रहा है। फोन घटनास्थल पर उपयोग हुए हैं उन्हें ट्रेस किया जा रहा है। हत्यारे जाते जाते एएसआइ दलजिंदर सिंह का मोबाइल फोन भी साथ ले गए थे। उसकी लोकेशन पर भी पुलिस की नजर है। मारे गए दोनो एएसआइ के मोबाइल फोन की उस दिन की काल डिटेल भी खंगाली जा रही है।