जेएनएन, मोगा। दो महीने की बेटी को चालीस हजार रुपये में बेचने आए दंपती को मोगा की सीआइए स्टाफ पुलिस ने पकड़ा है। इस दौरान बच्ची को खरीदने आया व्यक्ति और बच्ची का सौदा करवाने वाली महिला फरार हो गए। दंपती को शहर के बाहरी क्षेत्र में एक ढाबे से हिरासत में लिया है। दोनों का देर रात मथुरादास सिविल अस्पताल में मेडिकल कराया गया। सूचना मिलने पर बाल भलाई काउंसिल की चेयरपर्सन वरिंदर कौर भी सिविल अस्पताल पहुंच गई थीं, वे पूरे मामले की पड़ताल कर रही हैं।

बच्ची को बेचने आया दंपती लुधियाना के हैबोवाल इलाके का रहने वाला है। पुलिस पूछताछ में अवतार सिंह ने बताया कि वह मजदूरी करके अपने परिवार का पालन कर रहा था। उसकी दो साल की बेटी गुरमन कौर है। दो महीने पहले उसकी पत्नी ने एक और संतान के रूप में प्रभजोत कौर को जन्म दिया। प्रभजोत कौर की जन्म से फूड पाइप में कोई परेशानी होने के कारण उसका चंडीगढ़ में इलाज कराना पड़ा।

यह भी पढ़ें: पंजाब की 4150 राइस मिलों पर बंदी का संकट, बारदाना खत्म, सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्र को लिखा पत्र

इस बीच, अवतार सिंह का एक पैर सड़क हादसे में घायल होने के कारण उसकी मजदूरी पर जाना भी छूट गया। परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। अवतार सिंह ने बताया कि हैबोवाल में उन्हें एक महिला मिली थी। उसने कहा कि मोगा में एक दंपती बच्ची को लेना चाहते हैं, अगर वे बच्ची को बेचना चाहें तो 40 हजार रुपये दिला देगी। इस पर वे अपनी दो महीने की बेटी को बेचने के लिए तैयार हो गए।

यह भी पढ़ें: पंजाब में फिर सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस ने बनाई खास रणनीति, '2022 के लिए कैप्टन' का नारा

महिला ने पहले उनको जगराओं बुलाया। जगराओं में बताए स्थान पर वे पहुंचे तो उन्हें मोगा में लुधियाना रोड पर एक ढाबे पर आने को कहा। वहां महिला के साथ एक पुरुष भी था, जब वे ढाबे पर बच्ची खरीदने को लेकर चर्चा कर रहे थे तो वहां निकट ही बैठे किसी ने इसकी सूचना सीआइए स्टाफ पुलिस को दे दी। पुलिस के मौके पर पहुंचने पर बच्ची को खरीदने पहुंची महिला व उसके साथ आया व्यक्ति फरार हो गए। पुलिस ने दंपती को हिरासत में ले लिया।

यह भी पढ़ें: हरियाणा सरकार शुरू करेगी अनूठी योजना, पीपीपी पोर्टल पर एक लाख परिवारों को तलाश कर होगा कौशल विकास

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021