जेएनएन, लुधियाना। इंटरनेट पर दिन-ब-दिन सक्रिय हो रहे हैकर्स से बचना है तो पासवर्ड स्ट्रांग रखें। बहुत से लोग अपनी सुविधा के लिए व भूलने की आदत की वजह से अकाउंट का एक ही पासवर्ड रखते हैं, जो की खतरनाक है। यह बात गुज्जरवालां गुरुनानक खालसा कॉलेज की कॉमर्स डिपार्टमेंट की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. मनप्रीत कौर ने शोध पत्र पढ़ते हुए कहीं।

ऑनलाइन शॉपिंग करने वाले बदलते रहें पासवर्ड

डॉ. मनप्रीत कौर ने कहा कि जो लोग ऑनलाइन शॉपिंग ज्यादा करते हैं, उन्हें समय-समय पर पासवर्ड बदलते रहना चाहिए। ई-मेल पर कई बार ऐसी मेल आती हैं जो शॉपिंग करने के बाद बोनस प्वाइंट या डिस्काउंट देने के लिए कार्ड की जानकारी मांगते हैं। भूल कर भी इस तरह की मेल आने पर अपने अकाउंट नंबर या डेबिट व क्रेडिट कार्ड की जानकारी साझा न करें।

इन्होंने भी पढ़े शोध पत्र

केमिस्ट्री विभाग से प्रो. केके भसीन, डॉ. नरिंदर सिंह, डॉ. नवनीत कौर, गणित विभाग से प्रो. रजनीश कुमार, प्रो. डीएस पठानिया, फिजिक्स विभाग से प्रो. अमरजीत कौर, प्रो. जीएस बराड़, कंप्यूटर साइंस विभाग से संबंधित डॉ. राहुल रतन ने अपने शोध पत्र पढ़े। डॉ. हरमुनीष तेजा, डॉ. ब्रिजेश व डॉ. कविता ने भी शोध पत्र प्रस्तुत किए। इस दौरान गुज्जरवालां खालसा एजुकेशन कौंसिल के प्रधान डॉ. गुरशरण सिंह नरुला आदि मौजूद थे।

यूनिक होने चाहिए पासवर्ड

डॉ. मनप्रीत कौर ने कहा कि कोई भी मेल आइडी, एटीएम पिन तभी हैक होता है, जब पासवर्ड कमजोर हो। ऐसे में मेल आइडी, बैंक अकाउंट, एटीएम व क्रेडिट कार्ड के पासवर्ड हमेशा यूनिक होने चाहिए।

रखें इन बातों को ध्यान

  • पासवर्ड हमेशा अल्फा-न्यूमेरिक करेक्टर में होना चाहिए।
  • पासवर्ड की करेक्टर लिमिट कम से कम आठ होनी चाहिए।
  • पासवर्ड सेट करते वक्त स्पेस का भी इस्तेमाल किया जा सकता है, जिससे पासवर्ड दूसरे के मुकाबले ज्यादा सेफ हो जाता है और हैकिंग की संभावना कम हो जाती है।
  • यह ध्यान देना जरूरी है कि बहुत से लोग पासवर्ड सेट करते समय यूजर नेम को ही पासवर्ड की जगह इस्तेमाल करते हैं, जो कि बिल्कुल गलत है।
  • पासवर्ड में अपना नाम, कंपनी का नाम या किसी भी पॉपुलर शब्द का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • एक पासवर्ड को ज्यादा समय तक यूज करने से बचना चाहिए।
  • पासवर्ड को याद रखने की कोशिश करें।
  • कुछ लोग अपने मोबाइल नंबर व डेट ऑफ बर्थ को भी पासवर्ड के तौर पर इस्तेमाल करते हैं, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ेंःनाबालिग बेटी के पेट दर्द होने का कारण जान खिसक गई परिजनों के पैरों तले जमीन

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!