जेएनएन, लुधियाना। यहां एक शातिर महिला लोगों को एक के बाद एक ठगी का शिकार बना रही है। पिछले दो साल में 10 से ज्यादा लोगों को ठगी का शिकार बनाने वाली शातिर 'बबली' के खिलाफ लुधियाना पुलिस ने मामला दर्ज किया है। आरोपित की पहचान नूरवाला रोड निवासी श्वेता सहगल के रूप में हुई है। वह खुद को सरकारी मुलाजिम बताती है और अधिकारियों से सेटिंग की बात कहकर लाखों रुपये ऐंठ लेती है।

पुलिस का कहना है कि वह ए तरह से चलता-फिरता सरकारी ऑफिस है। उसके पास कई फर्जी दस्तावेज भी हैं, जिसकी मदद से लोगों को फंसा रही है। फिलहाल पुलिस आरोपित और उसके साथियों की तलाश में जुटी हुई है।

उसकी शिकार बने अभय कुमार जैन (70) ने पुलिस को बताया कि वह पेशे से ज्योतिषी हैं और हौजरी का कारोबार भी करते हैं। 2016 में श्वेता उनके पास आई थी।

अभय के अनुसार, महिला ने बताया कि वह सरकारी कॉलेज में नौकरी करती है। रेलवे और बैंक में नौकरियां निकलने वाली है। अगर किसी को लगवाना हो तो उसे बता दें। वह उसके झांसे में आ गए। उन्होंने महिला से कहा कि उनके पोते अक्षय और उसके दोस्त सुनील की नौकरी लगवा दे। इसके लिए श्वेता ने उनसे 10.20 लाख रुपये ले लिए।

अभय ने बताया कि इसके बाद दोनों युवकों को व‍ह पहले चंडीगढ़ के पंजाब यूनिवर्सिटी और अंबाला इंटरव्यू की बात कहकर ले गई। वहां उसने अपने साथी मनोज अरोड़ा और रुपिंदर कौर के साथ मुलाकात करवाई और कहा कि ये नौकरी लगवाएंगे। उन्‍होंने अपने फाने नंबर भी दिए और काम होने पर बुलाने की बात कही। बाद में इन लाेगों के मोबाइल  नंबर बंद आने लगे। इस पर अभय ने श्‍वेता से कहा कि वह उनके पैसे दे। पहले तो वह टालती रही, लेकिन बाद में उन्हें जालंधर के रहने वाले एक शख्स के नाम के साढ़े तीन-तीन लाख के चेक दे दिए। चेक बैंक में लगाए गए तो बाउंस हो गए।

आठ और लोगों को बनाया शिकार

अभय ने इसकी शिकायत दी तो दुगरी के रहने वाले पांच लोग उनके पास आए, जिसमें सतनाम सिंह, कुलंवत सिंह, गुरप्रीत सिंह, कंचन बाला और सुखदीप सिंह शामिल थे। उन्होंने बताया कि आरोपित ने उनसे भी आठ लाख रुपये की ठगी की है। उन्हें भी चेक दिए थे और वे बाउंस हो गए। उन्‍होंने इसकी शिकायत पुलिस को दी थी। इस मामले में भी पुलिस ने पर्चा दर्ज किया है। इसके अलावा पटियाला के रहने वाले जसवंत सिंह, बलदेव सिंह और गुरदीप सिंह से आरोपित ने 13 लाख रुपये की ठगी की है।

सरकारी दस्तावेजों की बना रखी थीं फर्जी कापियां

अभय जैन ने बताया कि महिला ने उनके पोते को नौकरी दिलाने के लिए एक अप्वाइंटमेंट लेटर भी निकालकर दिया था, जोकि सरकारी ऑफिस का लगता था। बाद मे चेक करवाया तो उक्त दस्तावेज और उस पर लगी मुहरें फर्जी निकलीं।

कई जिलों में कर चुके है ठगी

महिला की ठगी के शिकार हुए लोगों के मुताबिक, ठग महिला के साथ उसके तीन और साथी हैं। इनके नाम हुसनदीप, मनोज अरोड़ा और रुपिंदर कौर हैं। पुलिस इन लोगों की भी तलाश कर रही है। पुलिस को आशंका है कि आरोपितों ने कई और लोगों को भी शिकार बनाया है।

------

'' पीडि़त के बयानों पर आरोपित के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल आरोपितों की तलाश में छापामारी की जा रही है। उसके खिलाफ पहले भी कई मामले दर्ज और कई की शिकायतें पेंडिंग है।

                                                                                 - निशान सिंह, जांच अधिकारी, थाना जोधेवाल।

Posted By: Sunil Kumar Jha