जागरण संवाददाता, लुधियाना : जिले में रविवार को जेईई एडवांस परीक्षा का आयोजन किया गया। परीक्षा के लिए शेरपुर स्थित इयोन सेंटर को केंद्र बनाया गया था। परीक्षा दो चरणों सुबह नौ से दोपहर 12 और दोपहर ढाई से शाम पांच बजे के बीच हुई। परीक्षा को लेकर सुबह छह बजे ही परीक्षार्थी सेंटर में पहुंचने शुरू हो गए थे। इस दौरान कोरोना से बचाव को लेकर शारीरिक दूरी सहित अन्य तरह की सावधानियां बरती गई। जानकारी के अनुसार सुबह की शिफ्ट में 343, जबकि दूसरी शिफ्ट में 344 परीक्षार्थी परीक्षा में बैठे। परीक्षा केंद्र में परीक्षार्थियों को केवल पारदर्शी पानी की बोतल, पैन व पारदर्शी बोतल में हैंड सैनिटाइजर लेकर जाने की अनुमति थी। जिन विद्यार्थियों के पास स्मार्ट या डिजिटल घड़ी, ब्लू टूथ था, वह बाहर रखवा दिया। थर्मल स्कैनिंग के बाद ही परीक्षार्थियों को परीक्षा हाल में जाने दिया गया। कुछ परीक्षार्थियों ने बताया कि परीक्षा आसान थी, तो कुछ का कहना था कि परीक्षा सामान्य रही।

---------

अभिभावक भूले शारीरिक दूरी, सेंटर के बाहर जुटी रही भीड़

उधर दूसरी तरफ परीक्षा केंद्र के अंदर शारीरिक दूरी के नियमों का सख्ती से पालन किया गया, वहीं परीक्षा केंद्र के बाहर अभिभावक इन नियमों को भूल गए। सेंटर के बाहर अभिभावकों की भारी भीड़ जुटी हुई थी। कई अभिभावकों ने तो मास्क भी नहीं पहना था। ऐसे में कोरोना संक्रमण का खतरा रहा। वहीं कई अभिभावक धूप से परेशान थे।

-------

ऑनलाइन बागवानी शिक्षा के बाद पौधे लगाने में जुटे बच्चे

बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई के बाद बाहर नहीं जाते बल्कि अपने स्कूल या घर के आसपास पौधे, फूल लगाने का काम करते है। स्कूल की ओर से भी ऑनलाइन पढ़ाई में बागवानी के बारे में बताया जाता है कि फ्री टाइम में बच्चे बागवानी करें।

ज्ञान निकेतन स्कूल के एमडी राकेश कुमार सिंह और प्रिसिपल दीपू कुमार सिंह ने बताया ऑनलाइन बागवानी की शिक्षा में बिट्टू ने अपने आवासीय परिसर को हरा-भरा नहीं किया है। उसने अन्य बच्चों शानया, परी को अपने-अपने घर के आसपास पौधे लगातार हरियाली लाने के लिए प्रेरित किया। पौधे लगाने वालों में आयुष, हर्षित, नीरज मुकुल प्रिया कुमारी ने भी पौधे लगाने में जुटे है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!