सत्येन ओझा, मोगा। कांग्रेस ने फिल्म अभिनेता सोनू सूद की बहन मालविका सूद सच्चर को मोगा से पार्टी प्रत्याशी बनाया है। पार्टी ने यहां से वर्तमान विधायक कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के भारी विरोध को दरकिनार करते हुए उन्हें प्रत्याशी बनाया।

मालविका सूद ने जब कांग्रेस का दामन थामा था, तभी कयास लगाए जा रहे थे कि वह कांग्रेस की प्रत्याशी होंगी।मालविका सूद के कांग्रेस में आने के बाद से वर्तमान विधायक डा. हरजोत कमल ने कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने दूरी बना ली थी। कमल ने बागी रूप दिखाया तो मुख्यमंत्री ही नहीं बल्कि उनकी कैबिनेट के छह मंत्रियों ने डा. हरजोत को मनाने का पूरा प्रयास किया, लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली।

टिकट कटने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विधायक हरजोत कमल ने कहा कि पार्टी ने जनभावना के खिलाफ जाकर फैसला लिया है। वहीं, मालविका सूद ने कहा कि हरजोत कमल से मिलकर बात करने का प्रयास करूंगी। सभी कांग्रेसी हमारे साथ हैं।

यह भी पढ़ें: पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के 86 प्रत्याशियों की सूची जारी, चन्नी, सिद्धू, मालविका सूद व सिद्धू मूसेवाला का भी नाम

मालविका ने 1999 में प्लस-2 करने के बाद मोगा के लाला लाजपत राय ग्रुप आफ इंस्टीट्यूशन से 2002 में बीसीए, 2005 से एमसीए की। इसके बाद उन्होंने हैदराबाद में एक साफ्टवेयर कंपनी में काम किया। 2007 में मोगा में गौतम सच्चर के साथ शादी के बाद वे वापस मोगा लौट आईं। यहां पर उन्होंने हालीवुड इंगलिश एकेडमी के नाम से आइलेट्स सेंटर शुरू किया। वर्तमान में वे अपने पति के साथ इसी सेंटर को संचालित कर रही हैं। सूद चेरिटेबल फाउंडेशन पंजाब की चेयरमैन के रूप में पिछले दो सालों से समाजसेवा के कामों में सक्रिय हैं, खासकर कोरोना काल में उन्होंने जरूरतमंदों की काफी मदद की।

वहीं, कांग्रेस ने बाघापुराना में विधायक दर्शन सिंह बराड़ व धर्मकोट में विधायक सुखजीत सिंह काका लोहगढ़ पर दोबारा भरोसा जताया है। बाघापुराना से दर्शन सिंह बराड़ के लिए प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू, जबकि धर्मकोट से सुखजीत सिंह काका लोहगढ़ के लिए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी टिकट घोषित होने से पहले ही वे पार्टी की रैलियों में उन्हें प्रत्याशी होने का संकेत देकर वोट मांग चुके थे। 

Edited By: Kamlesh Bhatt