जेएनएन, मोहाली/फरीदकोट। Bargadi sacrilege case: श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में नामजद छह डेरा प्रेमियों को पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। फरवरी 2021 में सीबीआइ से इस मामले की फाइलें वापस लेने के बाद पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए कोटकपूरा के रहने वाले निशान सिंह, रणजीत सिंह व प्रदीप सिंह के अलावा फरीदकोट के रहने वाले बलजीत सिंह व शक्ति सिंह सहित एक अन्य आरोपित सुखविंदर सिंह सनी को गिरफ्तार किया है।

आरोपितों को गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब के बाहर भद्दी शब्दावली वाला पोस्टर लगाने और बरगाड़ी के गुरुद्वारा साहिब के बाहर पावन स्वरूप की बेअदबी करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है, जबकि निशान सिंह व प्रदीप सिंह की बेअदबी की घटना के लिए भी गिरफ्तारी डाली गई है। सभी आरोपितों को सोमवार फरीदकोट की अदालत में पेश किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: पंजाब में गोबर से बनेगी बिजली, गैस भी होगी तैयार, जर्मन तकनीक का होगा इस्तेमाल

इससे पहले इन सभी आरोपितों को एक अन्य आरोपित के साथ वर्ष 2020 में डीआइजी रणबीर सिंह खटड़ा की अगुआई में बनी एसआइटी ने गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब से पावन स्वरूप चोरी करने के मामले में गिरफ्तार किया गया था लेकिन उन्हें जमानत मिल गई थी।अब इन आरोपितों को एआइजी राजिंदर सिंह सोहल के नेतृत्व में बनी टीम की ओर से गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें: ओवरलोड हुई पंजाब की जेलें, 90 दिन की छुट्टी पर भेजे जाएंगे 3600 सजायाफ्ता कैदी, प्रक्रिया शुरू

पुलिस सूत्रों का कहना है कि एसआइटी के प्रमुख बार्डर रेंज के आइजी एसपीएस परमार के नेतृत्व में इस मामले के विभिन्न पहलुओं की जांच के दौरान पुलिस को कुछ ऐसे सुराग मिले हैं जिनके आधार पर जल्द ही बड़े खुलासे हो सकते हैं। वर्ष 2014-15 में बरगाड़ी बेअदबी के मामले में तीन केस श्री गुरु ग्रंथ साहिब के अंगों की बेअदबी करना, पावन स्वरूप चोरी करना और गांव में पोस्टर लगाना शामिल हैं। जिसे लेकर फरीदकोट के बाजाखाना थाने में केस दर्ज हुए थे।

यह भी पढ़ें: चंडीगढ़ में अंतिम संस्कार के लिए भी अपोइंटमेंट, श्मशान घाट में आग बुझने से पहले ही अगली चिता तैयार

इसकी जांच तत्कालीन सरकार ने सीबीआइ को सौंपी थी लेकिन वर्तमान कैप्टन सरकार ने सीबीआइ से जांच वापस लेने के विधानसभा में प्रस्ताव पारित किया था। सरकार के प्रस्ताव को सीबीआइ ने हाई कोर्ट में चुनौती भी दी लेकिन सीबीआइ को सफलता नहीं मिली। अब एसआइटी ने मामले की दोबारा जांच शुरू की है। तीनों मामलों की जांच आइजी एसपीएस परमार के अलावा एआइजी राजिंदर सिंह सोहल व इंस्पेक्टर दलबीर सिंह सोहल कर रहे हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार जल्द ही इस मामले में कुछ और लोगों की गिरफ्तारी भी हो सकती है।

यह भी पढ़ें: पंजाब में कैप्टन व सिद्धू में चल रहा है शह-मात का खेल, हाईकमान चुप, नवजोत के पक्ष में उतरे मंत्री रंधावा

बहबल कलां गोली कांड की जांच के लिए नई एसआइटी गठित

बहबल कलां गोलीकांड की जांच के लिए पंजाब सरकार ने नई विशेष जांच टीम (एसआइटी) का गठन कर दिया है। टीम की अगुआई लुधियाना पुलिस रेंज के आइजी नौनिहाल सिंह करेंगे। उनके साथ एसएएस नगर (मोहाली) के एसएसपी सतिंदर सिंह और फरीदकोट के एसएसपी स्वर्णदीप सिंह को लगाया गया गया। सरकार की ओर से गठित की गई एसआइटी की ओर से 14 अक्टूबर 2015 और 21 अक्टूबर 2015 को फरीदकोट के थाना बाजाखाना में दर्ज किए गए दो मामलों की जांच की जाएगी। यह मामले भीड़ पर गोली चलाने को लेकर दर्ज किए गए थे।

यह भी पढ़ें: हरियाणा में 1 वर्ष में 6,500 सरकारी कर्मचारियों की छंटनी, करीब 20 विभागों में गई नौकरी