जागरण संवाददाता, लुधियाना : किसान आंदोलन के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) इस समय पंजाब में बुरे दौर से गुजर रही है। पार्टी के प्रदेश महामंत्री मालविंदर ङ्क्षसह कंग के इस्तीफे के बाद लुधियाना से भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के पूर्व जिला अध्यक्ष व एडवोकेट संदीप कपूर ने प्रदेश और जिला प्रधान की कारगुजारी पर सवाल खड़े करते कार्यकर्ताओं की अनदेखी के आरोप लगाए हैं।

संदीप कपूर ने फेसबुक लाइव होकर प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा को साफ कहा, 'प्रधान जी चापलूसों से बचो, धन्ना सेठों को पार्टी में शामिल करके पार्टी आगे नहीं बढ़ेगी बल्कि जो चुनावी राजनीति में सक्रिय रहे हैं उन्हें पार्टी में सम्मान दें।' कपूर ने यहां तक कह दिया कि सक्रिय राजनीति वाले कार्यकर्ताओं को पूछा नहीं जा रहा और पार्टी में शामिल हुए धन्ना सेठ कार्यकर्ताओं को अपमानित कर रहे हैं। ऐसा जिला कार्यकारिणी से लेकर प्रदेश कार्यकारिणी में हो रहा है।

अश्वनी ने कार्यकर्ताओं की बात केंद्रीय नेतृत्व तक नहीं पहुंचाई
संदीप ने कहा कि कार्यकर्ता प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा को लंबे समय से कहते आ रहे थे कि अकाली दल से उन्हें नाता तोड़ देना चाहिए, लेकिन अश्वनी ने कार्यकर्ताओं की बात केंद्रीय नेतृत्व के पास नहीं पहुंचाई। अब जब अकाली दल ने गठबंधन तोड़ा तो भाजपा नेतृत्व से बात तक नहीं की। अकाली दल के पीछे लगे रहने के कारण भाजपा गांवों में अपना आधार नहीं बना पाई। अगर वहां पर भाजपा कार्यकर्ता होते तो किसान आंदोलन ही नहीं होता।

मालविंदर कंग को मनाकर पार्टी में लाएं
संदीप ने प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा को सलाह दी है कि वह मालङ्क्षवदर कंग को मनाकर पार्टी में वापस लाएं और उनके जरिए ही किसानों से संपर्क करें। कपूर ने मालविंदर कंग से भी अपील की कि वह किसी अन्य पार्टी में न जाएं और भाजपा के साथ बनें रहें।

जमीनी स्तर के इन नेताओं को खुुड्डे लाइन लगा दिया

युवा मोर्चा के पूर्व जिला अध्यक्ष ने अश्वनी से कहा कि लुधियाना में संजय कपूर, नीरज वर्मा, सर्बजीत ङ्क्षसह काका, आरडी शर्मा, प्रवीण गोयल, अश्वनी महाजन, सुनीता अग्रवाल समेत कई नेता हैं जो जमीनी स्तर पर चुनाव लड़ते और सक्रिय रहे हैं। इस समय ये सब खुड्डे लाइन लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि वह अब पार्टी को आइना दिखा रहे हैं तो निश्चित तौर पर उनके खिलाफ कार्रवाई होगी, लेकिन वह पार्टी के लिए समर्पित हैं इसलिए पार्टी के हित में उन्होंने यह सब बोलने का फैसला किया।

Edited By: Vipin Kumar

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!