जागरण संवाददाता, लुधियाना : सरकारी कर्मचारियों को ई- कुबेर सॉफ्टवेयर में खराबी के चलते वेतन जारी नहीं हो पाया। जिला खजाना अधिकारी रछपाल सिंह ने बताया कि जिले के 1400 कर्मचारियों का 63 करोड़ रुपये का वेतन अभी उनके खाते में नहीं जा पाया। नई व्यवस्था के तहत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के माध्यम से जारी होने वाले इस वेतन राशि को अभी तीन चार दिन का और समय लग सकता है। वेतन जारी होने की नई तकनीक के चलते हुई गड़बड़ी के सुधार के लिए खजाना कार्यालय के कर्मचारी इससे संबधित पांच बैंकों में डेरा जमाए बैठे हैं, लेकिन जानकारों की मानें तो इसके सुधार में अभी तीन से चार दिन का समय लग सकता है। बता दें कि सरकारी कर्मचारियों को इससे पहले वेतन स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ट्रेजरी ब्रांच के माध्यम से जारी होता था। दो महीने पहले इस ब्रांच की बजाए इसे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जोड़ दिया गया। इसके लिए नया सॉफ्टवेयर ई-कुबेर माध्यम बनाया गया। इसी सॉफ्टवेयर की गड़बड़ी के चलते 1 नवंबर को जारी हुए वेतन में कई कर्मचारियों के बैंक खाते में दो बार वेतन चला गया था। इसकी सूचना मिलते ही इन सभी कर्मचारियों के खाते फ्रीज करते हुए फिर से वेतन भेजने की सूचना दी गई। अब इस सुधार प्रक्रिया में लग रहे समय के चलते एक सप्ताह बाद भी कर्मचारियों के खाते में वेतन नहीं पहुंच पाया। तीन दिन और लग सकते हैं : जिला खजाना अधिकारी

ई-कुबेर सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के चलते वेतन लेट हो गया है। हमारे कर्मचारी संबधित बैंकों की ब्रांच में जाकर इसे दुरुस्त करवाने में जुटे हैं। वहीं रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी इन एंट्री को क्लीयर करवा रहा है। वेतन रिलीज होने में अभी तीन चार दिन और लग सकते हैं।

रछपाल सिंह, जिला खजाना अधिकारी

Posted By: Jagran