जासं, लुधियाना। Punjab Roadways Strike: पंजाब में राेडवेज के कांट्रैक्ट कर्मचारियाें की हडताल से यात्री दिनभर बसाें के लिए भटकते रहे। मंगलवार काे मुलाजिमाें ने मांगों को लेकर लुधियाना बस स्टैंड में धरना प्रदर्शन किया। इससे करीब 200 बसाें के चक्के थम गए। बस स्टैंड में आने-जाने बसों के चक्के जाम कर दिए गए और धरना प्रदर्शन करने वाले सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए अपनी मांगों की जिद पर अड़े।

बस यूनियन के पदाधिकारी परमजीत सिंह ने कहा कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होती तब तक संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि बस कर्मचारियों की मांग बरसों से निलंबित पड़ी हुई है। सरकार मुलाजिम पक्के करने के दावे कर रहे हैं लेकिन बस मुलाजिमों को पक्का नहीं किए जाना लोकतंत्र के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार यूनियन को आश्वासन दिया है कि जल्द ही मुलाजिमों को पक्का कर दिया जाएगा तो दूसरे विभागों के मुलाजिमों को पक्का किया गया और परिवहन विभाग कर्मचारियों के उप क्यों उपेक्षित रखा गया है। पंजाब रोडवेज की सभी बसें थमी हुई है।

अंतरराजीय बसों का परिचालन भी थमा

लुधियाना बस स्टैंड में प्रदर्शन करते काॅन्ट्रैक्ट मुलाजिम। (जागरण)

वहीं प्राइवेट बसों को भी बस स्टैंड में एंट्री बंद कर दिया गया है, जिससे यात्रियों को परेशानी हो रही है। यात्रियों सुलोचन सिंह,  करण सिंह व प्रदीप कुमार का कहना है कि प्राइवेट बसें काे भी अड्डे में नहीं आने दिया जा रहा।  हड़ताल से अंतरराजीय बसों का परिचालन भी थम गया है जिससे हरियाणा दिल्ली हिमाचल जम्मू-कश्मीर आदि जाने वाले यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कर्मचारियों के प्रतिनिधियों ने कहा कि जब तक उनके मांग पूरी नहीं हो जाती तब तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा और बसों का चक्का जाम करके रखेंगे।इस माैके पर बलबीर सिंह, अवतार सिंह, सुलोचन सिंह, अमरजीत सिंह, जगतार सिंह, विक्की कुमार व सचिन आदि मुख्य रूप से माैजूद थे।

यह भी पढ़ें-Punjab Politics: फाजिल्का में सीएम चन्नी के पहुंचने से पहले किसानों का धरना, ओलावृष्टि से खराब फसल का मुआवजा देने की मांग

Edited By: Vipin Kumar