लुधियाना, जेएनएन। पंजाब में प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। पराली जलाने के मामलों में हो रही बढ़ोतरी से स्मॉग की चादर में कई शहर घिरे हुए हैं। वहीं वीरवार को भी बादल छाए रहने का प्रतिकूल प्रभाव रिमोट सेंसिंग सिस्टम पर पड़ा। महानगरों सहित पंजाब के अन्य प्रमुख शहरों में एयर क्वालिटी इंडेक्स बिगड़ा रहा। बादलों ने सेटेलाइट को पराली की आग की घटनाएं रिकॉर्ड करने में समस्या खड़ी कर दी। वीरवार को भी पंजाब रिमोट सेंसिंग सेंटर के सेटेलाइट से खेतों में पराली जलाने की तस्वीरें रिकॉर्ड नहीं की जा सकीं।

पंजाब रिमोट सेंसिंग सेंटर के एग्रो ईको सिस्टम और क्रॉप मॉडलिंग डिवीजन के प्रमुख डॉ. अनिल सूद ने कहा कि पूरे पंजाब में बादल होने की वजह से सेटेलाइट में पराली जलाने के मामले सामने नहीं आए। जब तक ऐसी स्थिति रहेगी तब तक सेटेलाइट तस्वीरें नहीं ले सकेगा। मौसम साफ होने के बाद ही खेतों में जलाई जा रही पराली की स्थिति साफ हो पाएगी। उधर, मौसम विभाग ने अभी दो दिन और बादल छाए रहने की संभावना जताई है।

हवा चलने से तापमान गिरा, आज बारिश के आसार 

मंगलवार को पूरा दिन धूप न निकलने और हवाएं चलने से दिन के तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई। कई इलाकों में तो अधिकतम तापमान सामान्य से पांच से सात डिग्री सेल्सियस तक कम रहा। इंडिया मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट चंडीगढ़ के अनुसार अमृतसर में अधिकतम तापमान 21.1 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जोकि सामान्य से सात डिग्री सेल्सियस कम था। वहीं बठिंडा में अधिकतम तापमान 21.9, लुधियाना में 24.5 और राजधानी चंडीगढ़ में 25.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। शुक्रवार को भी पंजाब के कई हिस्सों में बादल छाए रहेंगे और कुछ जगह बारिश हो सकती है। इससे ठिठुरन बढ़ने की संभावना है। वहीं छह दिन पहले हुई बारिश में कई अनाज मंडियों में धान भीग गया था। यह धान अभी सूखने के ही कगार पर था कि अब मौसम फिर खराब हो गया है। वीरवार को कई जिलों में हल्की बूंदाबांदी भी हुई। अब आसमान में छाए बादलों ने किसानों को भयभीत कर दिया है।

 

 

हरियाणा की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

पंजाब की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Vikas Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!