लुधियाना, [मुनीश शर्मा]। ट्रेनाें के माध्यम से पंजाब आने वाले यात्रियों का कोविड टेस्ट (Covid Test) नहीं होने से समस्या विकराल हो सकती है। बाहरी राज्यों से आने वाले यात्रियों की कोरोना रिपोर्ट (Corona Report) नेगेटिव होने के बाद ही प्रवेश करने के आदेश पंजाब सरकार ने जारी किए तो रेल विभाग के अधिकारी इसमें कोई रुचि नहीं दिखा रहे। रेलवे विभाग का मानना है कि उनको ऐसी कोई भी हिदायत केंद्र सरकार की तरफ से नहीं मिली है कि स्टेशन पर यात्रियों का कोरोना टेस्ट किया जाए यां उनकी रिपोर्ट देखी जाए।

वहीं सेहत विभाग द्वारा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के इन आदेशों को गंभीरता से नहीं ले रहा। ऐसे में हरियाणा, दिल्ली, यूपी-बिहार व महाराष्ट्र से आने वाली ट्रेनाें में रोजाना 20 हजार यात्री पूरे पंजाब में तो करीब 8000 से ज्यादा यात्री लुधियाना में बिना कोरोना जांच के आ रहे है।

बता दें कि रविवार को मिनी लॉकडाउन (MIni Lockdown) की घोषणा करते हुए राज्य सरकार ने आदेश जारी किए थे कि रेल, सड़क व हवाई जहाज के रास्ते पंजाब में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति का कोरोना टेस्ट किया जाए या फिर यात्री की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव देखकर ही एंट्री करने की अनुमति दी जाए। गाैरतलब है कि पंजाब के लुधियाना जिले में काेराेना वायरस के सबसे ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। इसके बाद भी रेलवे यात्रियाें की जान काे खतरे में डाल रहा है।

यह भी पढ़ें-7 मई तक PAU इंप्लाइज वर्क फ्रााम होम पर रहेंगे

जिले में कोरोना के मामले एकाएक बढ़ गए है। बढ़ते मामलों और गंभीर होती स्थिति को देखते हुए पीएयू प्रशासन की ओर से निर्णय लिया गया है कि 7 मई तक इंप्लाइज वर्क फ्रााम होम पर रहेंगे। रजिस्ट्रार की ओर से यूनिवर्सिटी के डीन, डायरेक्टर, हैड,टीचिंग व नान टीचिंग स्टाफ को जारी की गई इमेल में कहा गयाहै कि कोरोना के बढ़ते केसों कोदेखते हुए कर्मचारी वर्क फ्राम होम करेंगे। आनलाइन क्लासें लगाई जाए। फील्ड वर्क कोरोना गाइडलाइन के पालन के साथ हो।

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप