जागरण संवाददाता, लुधियाना। 15 अगस्त को पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारियों ने बुड्ढा दरिया के चार जगह से सैंपल लिए है। इन सैंपल को जांच के लिए लेबोरेटरी भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट आने के बाद पीपीसीबी आगे कार्रवाई करेगा। बुड्ढा दरिया में फैले प्रदूषण को लेकर हमेशा निगम और पीपीसीबी अधिकारी एक दूसरे को दोषी ठहराते है। निगम अधिकारियों का कहना होता है कि इंडस्ट्री के चलते प्रदूषण फैला है, जबकि पीपीसीबी अधिकारी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से गंदा पानी बाइपास कर बुड्ढा दरिया में फेंकने पर निगम को घेरते है।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पीपीसीबी अधिकारियों ने चार सैंपल बुड्ढा दरिया से लिए है। 15 अगस्त के दिन सैंपल लेने का एक सबसे बड़ा कारण माना जा रहा है कि इस दिन डाइंग इंडस्ट्री बंद होती है। इसके अलावा अन्य फैक्टियां भी छुट्टी के चलते बंद होती हैं। ऐसे में सैंपल लेकर पीपीसीबी निगम अधिकारियों की पोल खोलना चाह रहा है।

पीपीसीबी चीफ इंजीनियर गुलशन राय ने बताया कि चार सैंपल लिए गए हैं। इन्हें जांच के लिए भेजा गया है, इसकी रिपोर्ट आने के बाद आगे कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि बुड्ढा दरिया में फैक्ट्रियों का गंदा पानी गिराने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

विधायक छीना ने नए 11 केवी फीडर का किया शुभारंभ

लुधियाना : हलका दक्षिण से विधायक राजिंदर पाल कौर छीना ने मंगलवार को इलाके में नए 11 केवी फीडर का शुभारंभ किया। इस दौरान विधायक ने कहा कि यह फीडर 66 केवी सब स्टेशन गिल से चलता है। पिछले कुछ सालों के दौरान ओवरलोड हालत में था। इस वजह से गांव लोहारा एवं इसके आसपास के इलाकों में बिजली की काफी समस्या थी, लेकिन अब यहां पर लोगों को निर्विघन बिजली मिलेगी।

यह भी पढ़ें-  पंजाब में उज्ज दरिया ने फिर दिखाया रौद्र रूप, पानी की चपेट में आए गुज्जर समुदाय के कई डेरे

Edited By: Vinay Kumar