लुधियाना, [भूपेंदर सिंह भाटिया]। Punjab New Cabinet: आखिरकार लंबी जद्दोजहद के बाद पंजाब कैबिनेट की घोषणा हो गई। लुधियाना जिले के लिए अच्छी खबर यह है कि पिछले मंत्री भारत भूषण आशु को जहां कैबिनेट में बरकरार रखा गया है, वहीं खन्ना के युवा विधायक गुरकीरत सिंह कोटली को भी स्थान मिला है। इस तरह लुधियाना जिले के अब दो मंत्री कैबिनेट में होंगे। पिछले 5 दिनों से चल रही अलग-अलग चर्चाओं के बाद लुधियाना के एकमात्र कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु को बरकरार रखा गया। हालांकि इस कैबिनेट में जिले के अन्य विधायकों के नामों पर भी चर्चाएं रहीं, लेकिन कोई अन्य विधायक कैबिनेट की बस में स्थान नहीं बना पाया।

उधर, आशु के फिर से मंत्री बनने के बाद उनके निवास पर बधाई देने वालों का तांता लग गया। लोग उनकी पत्नी ममता आशु को भी बधाइयां देते नजर आए। उल्लेखनीय है कि प्रदेश प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू के कैबिनेट में हस्तक्षेप के बावजूद आशु को कैबिनेट में स्थान मिलना, उनकी हाईकमान तक पहुंच का फल है। वह टीम राहुल के अहम सदस्य हैं। अब जब पंजाब में युवाओं को आगे लाने का प्रयास किया जा रहा है, तो आशु को कैबिनेट में स्थान मिलना तय था। राहुल के करीबी होने और कैप्टन व सिद्धू के विवाद में खुद को अलग रखने के कारण ही आशु को बरकरार रखा गया है।

यह भी पढ़ें-Punjab Politics: पंजाब की सियासत में फिर आएगी गर्माहट, दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल कल लुधियाना आएंगे

 

दैनिक जागरण ने काेटली के मंत्री बनने की पहले ही जताई थी संभावना

चूंकि इस बार कैबिनेट में जो नए चेहरे आए हैं, उसमें लुधियाना जिले के खन्ना के विधायक गुरकीरत कोटली को भी शामिल किया गया है। दैनिक जागरण ने उनके मंत्री बनने की पहले ही संभावना जताई थी। गुरकीरत पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के पोते हैं और राहुल की युवा ब्रिगेड के सदस्य हैं। पंजाब प्रेदश कांग्रेस पार्टी के प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू के गुरकीरत कोटली काफी करीबी हैं और जब सिद्धू कैप्टन के खिलाफ मुहिम चला रहे थे, तो कोटली ने खुले तौर पर उनका समर्थन किया था।

यह भी पढ़ें-Punjab New Cabinet: पंजाब की नई कैबिनेट का एलान, धर्मसोत व कांगड़ समेत पांच की छुट्टी, कल शपथ ग्रहण

 

Edited By: Vipin Kumar