जासं, लुधियाना। Kisan Andolan: किसान आंदोलन (kisan Andolan) का सबसे अधिक असर पंजाब (punjab) पर पड़ रहा है, क्योंकि पंजाब के किसानों की इसमें सबसे अधिक शमूलियत है। पंजाब का आर्थिकता पर भी इसका प्रभाव पड़ रहा है। ऐसे में इस मसले को हल करने के लिए केन्द्र सरकार को तत्काल उचित कदम उठाने चाहिए। यह कहना था कैबिनेट मंत्री पंजाब राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी (Cabinet Minister  Rana Gurmeet Singh Sodhi) का। वह शुक्रवार को लुधियाना (Ludhiana) के जनपथ एस्टेट में एक कार्यक्रम में पहुंचे थे। साेढ़ी ने कहा कि इस पूरे मामले में माेदी सरकार को आगे आकर तत्काल इसका हल ढूंढना चाहिए।

यह भी पढ़ें-Food Festival: लुधियाना के लोधी क्लब में दो दिवसीय फूड फेस्टिवल दावत-ए-हिंदोस्तान आज से, जानें क्या हाेगा खास

 

सुखबीर बादल ने किसानाें के मुद्दे पर कोई आवाज नहीं उठाई

साेढ़ी ने कहा कि शिअद अध्यक्ष सुखबीर बादल (SAD President Sukhbir Badal) अब मार्च निकालने की बात कर रहे है, लेकिन सरकार में रहते हुए इस मुद्दे पर कोई आवाज नहीं उठाई। इस मुद्दे के हल के लिए केंद्र सरकार को एक कमेटी का गठन करना चाहिए। पंजाब में नशे को खत्म करने के लिए ढेरों प्रयास सफल हुए हैं।

यह भी पढ़ें-JEE Main Examination: पिछले साल नहीं दे सके थे जेईई एडवांसड तो अबकी बार मिलेगा केवल एक मौका, जानें शेड्यूल

 

आतंकी गतिविधियों का केन्द्र सरकार के साथ मिलकर करेंगे मुकाबला

पंजाब में आतंकी गतिविधियों की सुगबुगाहट में केन्द्र सरकार के साथ मिलकर मुकाबला किया जाएगा। गाैरतलब है कि पंजाब में किसान आंदाेलन के चलते लाेगाें काे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। किसानाें का कहना है कि जब तक माेदी सरकार कृषि सुधार कानूनाें काे वापस नहीं लेती दिल्ली में धरना जारी रहेगा। इसकाे लेकर पिछले दिनाें जालंधर में किसानाें ने रेल ट्रैक भी जाम किया था।

यह भी पढ़ें-Kabaddi World Cup के आयोजन पर खर्च लाखाें रुपये फंसे, बठिंडा के होटल मालिकाें काे 6 साल बाद भी नहीं हुआ भुगतान

 

Edited By: Vipin Kumar