जागरण संवाददाता, जगराओं (लुधियाना)। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसान जत्थेबंदियों ने जगराओं में भी रेलवे ट्रैक पर धरना देकर ट्रेनों की आवाजाही बंद करवा दी है। यहां किसान सोमवार से ही रेलवे स्टेशन पर डटे हुए हैं। इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन एकता डकौंदा के जिला सचिव इंद्रजीत सिंह धालीवाल व गुरप्रीत सिंह सिधवां ने कहा कि मोदी सरकार की ओर से पारित कृषि कानून देश हित में नही हैं। पिछले एक वर्ष से किसान जत्थेबंदियों इन कानूनों को रद करवाने के लिए दिल्ली बार्डर पर डेरा लगाया है। सैकड़ों किसान धरने के दौरान अपनी जान गंवा चुके हैं, बावजूद इसके केंद्र सरकार सुनवाई नहीं कर रही है। बता दें कि पूरे पंजाब में किसानों का धरना सुबह 10 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक चलेगा। 

किसान नेता कंवलजीत खन्ना ने बताया कि किसान जत्थेबंदियां सुबह बजे से रेलवे ट्रेक पर धरना लगाकर बैठी हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने अपने शासनकाल देश को तबाही की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है। सरकार ने धीरे-धीरे हर सरकारी विभाग को खत्म कर प्राइवेट और कारपोरेट हाथों में सौंप दिया है। देश में बेरोजगारी और महंगाई आसमान छू रही है। उन्होंने कहा कि मोदी हकुमत सरकारी विभागों विशेषकर डिफेंस, बीमा, बिजली, बैंक, एयरलायंस, तेल कंपनियां का निजीकरण करके बड़े पूंजी पतियों को मुनाफा देना चाहती है। केंद्र की नीतियों के कारण पंजाब में उसकी दखलअंदाजी बढ़ रही है जो कि पंजाब के लिए चिंता का विषय है।

इस मौके पर कंवलजीत खन्ना, दलबीर सिंह बुरज, टहल सिंह, बूटा सिंह, जगजीत सिंह, जगदेव सिंह, दलजीत सिहं रसूलपुर,पवन धनोआ, निर्मल सिंह भमाल, संतोष सिंह, दर्शन सिंह ,गुरदेव कौर, सतनाम कौर, जसबीर कौर सहित अन्य किसान व किसान महिलाएं अपने परिवार के सदस्यों के साथ धरने पर बैठी थी।

यह भी पढ़ें - Kisan Rail Roko Andolan: पंजाब में किसानाें ने रेलवे ट्रैक किए जाम, फिरोजपुर डिविजन ने 5 ट्रेनों का संचालन रोका

यह भी पढ़ें - Jalandhar Hit and Run: पुलिस कर्मी की कार ने दो लड़कियों को कुचला, एक की मौत; गुस्साए लोगों ने किया नेशनल हाईवे ब्लाक

Edited By: Pankaj Dwivedi