लुधियाना, [राजन कैंथ]। ट्रैफिक पुलिस कर्मचारी अब बिना किसी कारण वाहन को रोक कर तलाशी अथवा उस के दस्तावेज चेक नहीं करेंगे। सड़कों और चौराहों पर तैनात कर्मचारी केवल यातायात नियमों को तोड़ने वालों को ही रोकेंगे। इसके अलावा वो यातायात व्यवस्था को दुरुस्त बनाने पर ही ज्यादा ध्यान देंगे। उक्त आदेश एडीजीपी ट्रैफिक डाॅ. शरद सत्य चौहान ने सभी जिलों की पुलिस को जारी किए हैं।

ट्रैफिक पुलिस का फोकस बिना हेल्मेट, बिना सीट बेल्ट वाहन चलाने वाले, ओवर स्पीड, लेन तोड़ने, जेब्रा क्रॉसिंग पार करने, रेड लाइट जंप करने तथा ड्राइविं के दौरान मोबाइल का इस्तेमाल कर ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले वाहन चालकों पर ही होगा। आदेश के अनुसार अगर वाहन चालक उक्त नियम तोड़ते पकड़े गए तो ट्रैफिक पुलिस उस वायलेशन का चालान काटने के साथ-साथ उसके दस्तावेज भी चेक कर सकती है। दस्तावेज न होने पर वाहन चालक के चालान में वायलेशन के साथ उक्त धारा की भी वृद्धि की जाए।

ऐसे रखी जाएगी नजर

एडीजीपी डॉ. एसएस चौहान ने कमिश्नर पुलिस को निर्देश जारी किए हैं कि सड़कों पर तैनात पुलिस कर्मी उक्त आदेश का पालन कर रहे हैं या नहीं, उस पर नजर रखी जाए। किसी वरिष्ठ अधिकारी की ड्यूटी लगा उसकी जांच कराई जाए। उन्होंने कहा कि किसी भी आदेश को जारी करने के बाद उसकी निगरानी रखना बेहद जरूरी है। वो खुद भी जांच करेंगे के उक्त निर्देश लागू होने के बाद जमीनी स्तर पर क्या बदलाव आए। इसके लिए शहर के वाहन चालकों का भी फीडबैक लिया जाएगा।

हर साल सैंकड़ों लोगों की होती है मौत

नाकाबंदी करके वाहनों के चालान काटने की बजाय पुलिस का ट्रैफिक पर ध्यान देना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि शहर में हर साल सड़क हादसों में सैंकड़ों लोग अपनी कीमती जानें गवां रहे हैं। उनमें से ज्यादातर के कारण ओवर स्पीड, लापरवाही और हेलमेट न पहनना होता है।

यहां करें शिकायत

यदि शहर में कहीं ट्रैफिक पुलिस कर्मी ट्रैफिक व्यवस्था को छोड़ गाड़ियों को रोक कर दस्तावेज चेक करते दिखें, तो कमिश्नरेट के ट्रैफिक हेल्पलाइन नंबर 1073 तथा 78370-18932 पर शिकायत की जा सकती है। इसके अलावा पंजाब पुलिस की वेबसाइट, फेसबुक पेज व ट्विटर अकाउंट पर भी अपनी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

निर्देश पर दस्तावेजों की जांच करेंगे

एडीसीपी ट्रैफिक तरुण रतन ने बताया कि  ट्रैफिक पुलिस को एडीजीपी ट्रैफिक के निर्देश सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। अब पुलिस कर्मी केवल उसी सूरत में वाहन रोक कर उसके दस्तावेज की जांच करेंगे, जब कोई वॉयलेशन करता पाया गया। इसके अलावा कमिश्नर पुलिस के निर्देश पर ही दस्तावेजों की जांच की जाएगी।

ट्रैफिक पुलिस के पास भेज दी गई है गाइड लाइन

लुधियाना के पुलिस कमिश्नर डॉ. सुखचैन सिंह गिल का कहना है कि एडीजीपी ट्रैफिक की ओर से जारी की गई गाइड लाइन को ट्रैफिक पुलिस के पास भेज दिया गया है। उन्हें स्पष्ट भी किया गया है कि उक्त गाइड लाइन का उसी तरह से पालन किया जाए, ताकि किसी भी पुलिस कर्मी की कोई शिकायत न मिले।

नया निर्देश हर हालत में लागू करवाया जाएगा

एडीजीपी डॉ. एसएस चौहान का कहना है कि ट्रैफिक पुलिस की मुख्य जिम्मेदारी ट्रैफिक को नियंत्रित करने की है। मगर लोगों से लगातार यह फीडबैक आ रहा था कि पुलिस कर्मी नाका लगा दस्तावेज चेक करते रहते हैं। ट्रैफिक को सुचारू बनाने में कम ध्यान देते हैं। नया निर्देश हर हालत में लागू कराया जाएगा।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!