जगराओं, (लुधियाना) बिंदु उप्पल। अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिए गैर जरूरी यूरिया का बढ़ा रूझान किसानों में बड़े स्तर पर प्रचलित हो गया है। इस संबंधी किसानों को जागरूक करने के लिए आत्म परगास सोशल वेलफेयर काउंसिल ने पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी लुधियाना के सहयोग से नया प्रयास शुरू किया है। डा.नछतर सिंह, डायरेक्टर, आत्म परगास व पूर्व वाइस चांसलर, गुरु काशी यूनिवर्सिटी तलवंडी साबो, बठिंडा ने बताया कि डा.वरिंदरपाल सिंह सीनियर भूमि वैज्ञानिक पीएयू लुधियाना की ओर से मिल रही तकनीकी सुधार से गांव बसियां के किसानों ने औसतन 50 फीसदी यूरिया की बचत करके सफलता सहित पूरी पैदावार प्राप्त किए है।

पत्ता रंग चार्ट विधि को यूनिवर्सिटी आफ कैंब्रिज इंग्लैंड ने एक सफल विधि के तौर पर स्वीकार करते किसानों को इस विधि की सिखलाई देने के लिए आत्म परगस व पीएयू से सांझा रिसर्च प्रोजेक्ट आरंभ किया है। पंजाब स्तर के कृषि माहिरों को गांव बसियां की इस सफलता से जागरूक करवाने के लिए आईसीए आर अटारी के डायरेक्टर डा.राजबीर सिंह की अगुवाई में गुरु नानक पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल बसियां में खेत दिवस का आयोजन किया गया।

---

112 किसानों ने पत्ता रंग चार्ट विधि अपना दिए खेती में दिखाए अच्छे परिणाम

--

डा.वरिंदरपाल सिंह प्रमुख भूमि वैज्ञानिक पीएयू ने बताया कि यूरिया की गैर जरूरी उपयोग का रूझान बहुत खतरनाक है और यदि इस प्रति किसानों को शिक्षित न किया गया। पीएयू पत्ता रंग चार्ट विधि एक बहुत ही सस्ती व आसान विधि है। इसको अपनाकर नाइटरस आक्साइड गैस से होने वाले प्रदूषण को 45 फीसदी व नाइट्रोजन के पानी में जीरन से होने वाले प्रदूषण को 69 फीसदी घटाया जा सकता है। गांव बसियां में 112 किसानों ने खेतों में पत्ता रंग चार्ट विधि की सिखलाई के लिए लगाए अनुभवों में किसानों ने उत्साहजनक परिणाम प्राप्त किए है।

किसान अमनदीप सिंह ने कहा कि फसल को एक दूसरे से अधिक गहरी हरी करने के चक्र में किसान यूनिया की अंधाधुंध उपयोग कर लेते है परंतु इस गैर जरूरी उपयोग से पैदावार नहीं बढ़ता बल्कि बीमारियों व कीड़ों का अधिक प्रकाेप फसल उत्पादन खर्च को बढ़ाकर मुनाफा घटा देता है। अमनदीप सिंह ने पत्ता रंग चार्ट विधि की सहायता से 75 किलो यूरिया प्रति एकड़ की बचत करके 1.5 क्विंटल प्रति एकड़ का अधिक उत्पादन भी प्राप्त किया है। किसान गुरदीप सिंह ने बताया कि वह पिछले 2 वर्षों से 6 एकड़ में पत्ता रंग चार्ट विधि की सहायता से 50 फीसदी यूरिया खाद की बचत करके पैदावार प्राप्त कर रहा है।

गांव बसियां की तरह अन्य गांव भी बनेंगे रोल-माडलः डा.राजबीर सिंह

गांव बसियां में आयोजित समारोह में डा.राजबीर सिंह डायरेक्टर आईसीएआर अटारी ने पत्ता रंग चार्ट विधि के सफलता पर कहा कि खेतों में यूरियर की गैर जरूरी उपयोग को घटाने देश की प्रमुखताएं में शामिल है और पत्ता रंग चार्ट विधि को अपनाकर देश में बड़े स्तर पर यूरिया की बचत की जा सकती है। यदि हम पंजाब के किसानों को पीएयू पत्ता रंग चार्ट विधि की सिखलाई देने में सफलता हासिल कर लें ताकि पंजाब में हर वर्ष 750 कराेड़ रुपये की यूरिया की बचत की जा सकती है।

---

पत्ता रंग चार्ट जागरूकता मुहिम करेंगे तेज- डा.बैंस

पीएयू डायरेक्टर खोज डा.नवतेज सिंह बैंस ने आत्म परगास सोशल वेलफेयर काउंसिल की ओर से आंरभ की गई पत्ता रंग चार्ट जागरूकता मुहिम की सराहना की। डा.बलदेव सिंह वाइस डायरेक्टर खेतीबाड़ी विभाग पंजाब सरकार ने भरोसा दिलाया पत्ता रंग चार्ट विधि को पंजाब के हर किसान तक पहुंचाने के लिए उच्च तौर पर प्रयत्न किए जाएंगे।

Edited By: Vipin Kumar