जागरण संवाददाता, लुधियाना : जिले में पिछले तीन दिनों में एकाएक कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ गई। तीन दिन के भीतर ही 40 से अधिक मरीज आ गए हैं। इसका असर अब सिविल अस्पताल पर भी पड़ गया। सेहत विभाग की ओर से सिविल अस्पताल को नॉन कोविड अस्पताल बनाकर सोमवार से ओपीडी शुरू की जानी थी, लेकिन अब ऐसा नही होगा। विभाग ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शनिवार को ओपीडी शुरू करने के फैसले को फिलहाल स्थगित कर दिया है।

पहले की तरह अब भी सिविल अस्पताल में कोरोना के मरीजों को भर्ती किया जाएगा और उनका इलाज होगा। इसकी पुष्टि एसएमओ डॉ गीता ने भी की। उन्होंने बताया कि शनिवार को सिविल सर्जन डॉ राजेश बग्गा ने अभी सिविल अस्पताल में ओपीडी शुरू न करने का निर्णय लिया है। यह फैसला मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए लिया है। सिविल अस्पताल की ओपीडी ईएसआइ अस्पताल में ही चलेगी। हालांकि, वह पिछले चार दिन से ओपीडी को शुरू करने की तैयारियों में जुटी हुई थीं। वार्ड खाली करवा लिए गए थे। डॉ गीता ने कहा कि ओपीडी शुरू करने का फैसला कुछ देर के लिए टाल दिया गया है।

वीरवार को सिविल अस्पताल में सोमवार से ओपीडी शुरू करने की घोषणा की थी। अस्पताल के कोविड आइसोलेशन सेंटर को नॉन कोविड अस्पताल में तब्दील किया जाना है। । कोरोना पॉजिटिव बढ़ते मामले को देखकर प्रशासन ने फैसला बदल दिया है।

बाहर निकलने पर एहतियात बरतें

सिविल सर्जन डॉ. राजेश बग्गा ने कहा कि हमें कोरोना वायरस के बीच जीने की आदत डालनी होगी। कोरोना से बचाव के लिए मास्क पहनें, फिजिकल डिस्टेंस रखें। बार-बार हाथ धोने की आदत डालें। घर से बिना वजह निकलने की आदतों को छोड़ें। तब जाकर कोरोना वायरस से बचाव हो सकेगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!