लुधियाना, जेएनएन। शहर के एक इलाके में रहने वाली छात्रा से उसका पड़ोसी पांच माह तक दुष्कर्म करता रहा। इससे वह चार माह की गर्भवती हो गई है। पता तब चला जब उसके पेट में दर्द हुआ और उसे सिविल अस्पताल में दाखिल किया गया है।

पुलिस को दी जानकारी में महिला ने बताया कि उसकी पांचवीं कक्षा की छात्रा है। वह और उसका पति दोनों ही फैक्ट्री में काम करते हैं। घर पर उसकी बड़ी बेटी और उसकी बहन व भाई होते हैं। उनके ही बेहड़े का रहने वाला 20 वर्षीय युवक बेटी को अकेला पाकर उससे करीब पांच माह से दुष्कर्म कर रहा था। उसने उसे धमकाया था कि अगर उसने किसी को बताया तो उसके भाई की हत्या कर देगा। इससे बेटी डरी हुई थी।

तीन दिन पहले उसके पेट में दर्द हुआ तो वह दो दिन तक वहां नजदीक के क्लीनिक से दवा दिलवाते रहे। जब आराम नहीं मिला तो वह उसे दोबारा क्लीनिक में चेकअप के लिए गए। वहां पता चला है कि बच्ची के पेट में बच्चा है। इससे बच्ची बेहद सहम गई थी। जब उनकी ओर से इस संबंधी उससे पूछा गया तो उसने बताया कि बेहड़े में रहता युवक उससे पांच माह से दुष्कर्म करता रहा।

बच्ची के अनुसार जैसे ही माता-पिता काम पर चले जाते थे तो टिंकू ठाकुर नामक युवक उसके कमरे आता था और डरा-धमकाकर उसके साथ दुष्कर्म करता था। उनकी ओर से इसकी शिकायत दरेसी थाने में दी गई। इसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया।

बिना महिला पुलिस कर्मी के एएसआइ पहुंचे अस्पताल, नहीं हुआ मेडिकल

इस मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है। दरेसी से एएसआइ गुरविंदर सिंह मेडिकल करवाने के लिए सिविल अस्पताल पहुंच गए, मगर उनके साथ कोई भी महिला कर्मचारी नहीं थी। जबकि डॉक्टर बिना महिला पुलिस की मौजूदगी के बच्ची का मेडिकल नहीं कर सकती। गायनी विभाग में तैनात डॉक्टर महिला कर्मचारी का इंतजार करती रही, मगर जब कोई महिला पुलिस कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंची तो मजबूरन उसका मेडिकल टालना पड़ा। बच्ची को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sat Paul

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!