हरप्रीत सोई एक ऐसा नाम जिसने लुधियाना केयर नामक एनजीओ के बैनर तले उन तमाम कॉरपोरेट घरानों की महिलाओं को इकट्टा किया, जिनके बिना शहर का जिक्र ही अधूरा है। जब भी शहर से जुड़ा कोई मसला आया तो इस ग्रुप ने सरकार, प्रशासन, पुलिस और संबधित विभागों पर अपने कार्य, प्रभाव व सोशल मीडिया के जरिए इतना प्रेशर बना दिया कि प्रशासन को इसे प्राथमिकता से हल करना पड़ा। चाहे वह मुद्दा सिधवा कैनाल के प्रदूषित होने का हो या फिर फिरोजपुर रोड एलिवेटिड के निर्माण में बाधा पहुंचा रहे पेड़ों को काटने का। इन प्रमुख मसलों पर प्रशासन सक्रिय हुआ व इसके सकारात्मक परिणाम भी दिखने लगे। 

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी 

चिपको आंदोलन चलाया तो बच गए सैंकड़ों पेड़

फिरोजपुर रोड से समराला चौक तक बनने वाले एलिवेटिड रोड के लिए 1963 वृक्ष और 4900 पौधों को काटने की योजना बन चुकी थी। हरप्रीत सोई ने सहयोगी संस्थाओं के सहयोग से चिपको आंदोलन चला दिया। बड़ी संख्या में लोग इन पेड़ों को काटने के विरोध में जुटने लगे। पर्यावरण प्रेमी संस्थाएं भी संघर्ष में शामिल हो गईं।

आखिरकार प्रशासन और नेशनल हाईवे अथॉरिटी के अधिकारियों ने काम रोककर संघर्ष कमेटी सदस्यों के साथ मीटिंग तय की। मीटिंग में तय हुआ कि जिन पेड़ों को बचाया जा सकता है उन्हें बचाया जाएगा जो पेड़ शिफ्ट हो सकते है उन्हें शिफ्ट कर दिया जाएगा। वहीं लुधियाना केयर के हस्तक्षेप से निर्माण के दौरान फेंके जा रहे मलबे से हो रहे पेड़ों के नुकसान को रोकने के लिए एनएचएआई ने तुरंत प्रभाव से स्टाफ को आगाह भी कर दिया।

स्लम एरिया के बच्चों को शिक्षित करता है लुधियाना केयर

बस स्टैंड के नजदीक स्लम एरिया के बच्चों को शिक्षित करने के लिए हरप्रीत सोई सहित ग्रुप की अन्य सदस्याएं खुद पढ़ाने के लिए जाने लगीं। बच्चों की संख्या बढ़ी तो वहां टीचर की नियुक्ति कर दी गई। बच्चों की शिक्षा के साथ लुधियाना केयर उनकी सेहत और अन्य जरूरतों को भी पूरा करने में सहभागिता निभाता है। इसके अलावा लुधियाना केयर्स की ओर से जरूरतमंद बच्चों की पढ़ाई का खर्च भी उठाया जा रहा है।

सजाया तो फोकल प्वाइंट में चलाई पौधरोपण मुहिम

हरप्रीत सोई की देखरेख में लुधियाना केयर ने सिविल अस्पताल के पार्क को संवारने का जिम्मा संभाला। वहीं प्रदूषित फोकल प्वाइंट की दशा सुधारने के लिए पौधरोपण मुहिम चलाई जिसमें विभिन्न इंडस्ट्रियल एसोसिएशन ने भी खूब सहयोग किया। हरप्रीत सोई कहती है कि पौधरोपण के बाद पौधों को संभालने की बड़ी जिम्मेदारी होती है जिसे हम बखूबी निभा रहे है।

बेहद खराब है लुधियाना का इंफ्रास्ट्रक्चर

हरप्रीत सोई का कहना है कि लुधियाना का इंफ्रास्ट्रक्चर बेहद खराब है। सड़कें खस्ता हाल तो पार्क बदहाल हैं। पर्यावरण के प्रति बेहद सजग हरप्रीत को गिला है कि न तो सरकार न ही प्रशासन इसके लिए चितिंत है। अब लोगों पर उम्मीद टिकी है कि वह खुद जागे और सरकारी तंत्र पर दबाव बनाकर शहर को हरा भरा करने में गति दिखाए। जो काम सरकारों को करना चाहिए वह अब लुधियाना के जागरुक लोग कर रहे हैं। 

ट्रैफिक सेंस की कमी खलती है शहर में

हरप्रीत सोई कहती है कि लोगों में ट्रैफिक सेंस की कमी खलती है। अगर सब लोग नियम से चले तो ट्रैफिक तो स्मूथ तो होगा ही वहीं हादसों पर भी लगाम लगेगी। इसके लिए ट्रैफिक पुलिस को सख्त और लोगों को जागरुक होना होगा। वहीं लुधियाना के वेस्ट मैनेजमेंट से नाखुश हरप्रीत सोई का कहना है कि यह हमारा अपना शहर है। इसमें सुधार के लिए हम सब को मिलकर ही प्रयास करने होंगे।

By Nandlal Sharma