जासं, लुधियाना : बहुत बन गए मंदिर गुरुद्वारे, अब जरूरत है गांवों में अस्पताल बनाने की। पंजाब में जिस तेजी से कैंसर बढ़ रहा है, उसे देखते हुए अब दानी दाताओं को दान की दिशा बदलने की जरूरत है। यह शब्द व‌र्ल्ड कैंसर केयर चैरिटी के ग्लोबल अंबेसडर कुलवंत धालीवाल ने मंगलवार को गुरु नानक देव भवन में आयोजित कैंसर चेकअप कैंप के दौरान कहे।

धालीवाल ने कहा कि लोग धार्मिक स्थलों को काफी दान दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब कैंसर स्टेट बन चुका है। यहां पर हर दूसरे घर में कैंसर के मरीज हैं। सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात है कि हिंदोस्तान में कैंसर तीसरी स्टेज पर आकर डिटेक्ट होता है। उसके बाद मरीज सीधे मौत के मुंह में जाता है। उन्होंने कहा इंग्लैंड में भी कैंसर बहुत ज्यादा है। वहां पर कैंसर की डिटेक्शन पहली स्टेज में हो जाती है। इसलिए वहां पर मौत दर कम है। उन्होंने कहा पंजाब के गांवों में ऐसी लेबोटरी नहीं हैं जहां पर कैंसर की जांच हो। उन्होंने कहा कि इस कैंप में सात तरह के कैंसर की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि वह जल्दी ही सूबे में दो कैंसर डिटेक्शन सेंटर खोल रहे हैं। एक जालंधर में खोला जा रहा है जोकि जल्दी ही शुरू हो जाएगा जबकि दूसरा जगराओं में खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि वहां भी कैंसर के सभी टेस्ट होंगे और किसी से कोई फीस नहीं ली जाएगी। धालीवाल ने बताया कि इन सेंटरों में वह एक गोलक जरूर रखेंगे और लोगों से दान मांगेंगे। लुधियाना की इंडस्ट्री समझे कैंसर पीड़ितों का दर्द

कुलवंत धालीवाल ने कहा कि हर इंसान को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। उन्होंने कहा कि सरकार हर किसी पर नजर नहीं रख सकती है। धालीवाल ने लुधियाना की इंडस्ट्री को जमकर कोसा और कहा कि अभी इन्हें कैंसर पीड़ितों का दर्ज पता नहीं है। उन्होंने कहा कि यह लोग केमिकल वाला पानी दरिया में डाल रहे हैं और आगे लोगों को कैंसर बांट रहे हैं। उन्होंने इंडस्ट्री से अपील की है कि वह ऐसा न करें।

Posted By: Jagran