जागरण संवाददाता, लुधियाना। Ludhiana Weather Update लुधियाना में वीरवार ही बादलों ने दस्तक दी। बादलों के साथ-साथ पांच किमी की रफ्तार से हवा भी चल रही थी। जिससे ठंडक का एहसास हो रहा था। सुबह आठ बजे पारा भी 23 डिग्री सेल्सियस रहा। हालांकि बीच-बीच में धूप भी निकल रही थी। मौसम विभाग की मानें तो आज बादलों की आवजाही लगी रहेगी। दोपहर 1 बजे के बाद शहर में बूंदाबांदी या हल्की बारिश हो सकती हैं। इसके बाद रात में भी बादल छाएं रह सकते हैं। हालांकि बुधवार को मानसून की विदाई हो चुकी है।

इसके बाद भी वैज्ञानिकों का कहना है कि बारिश हो सकती है। वहीं कृषि माहिरों का कहना है कि अब बारिश नहीं होनी चाहिए, कम से कम दो हफ्तों तक। क्योंकि धान की कटाई हो रही है और फसल मंडियों में पहुंच रही है। बारिश हुई तो खेत के साथ-साथ मंडियों में धान खराब होगा। उन्होंने कहा कि नवंबर में अब बारिश की जरूरत होगी, जब गेंहू की बिजाई होगी। वैज्ञानिकों का कहना है कि पहले ही सितंबर के आखिरी तक हुई बारिश की वजह से धान की कटाई दस दिन लेट हो चुकी है।

इधर, एशिया की सबसे बड़ी अनाज मंडी खन्ना में लिफ्टिंग न होने के कारण बोरियों के अंबार लगने शुरू हो गए हैं। धान की खरीद शुरू होने के चार दिन बाद भी मंडी में हुई कुल खरीद की 8 फीसद ही लिफ्टिंग हो पाई है। सुस्त लिफ्टिंग के कारण मंडी में जगह की लगातार कमी हो रही है। मंडी में करीब 257251 बोरियां अन लिफ्टिड पड़ीं हैं। इससे किसान और आढ़ती बेहद परेशान हैं। जानकारी के अनुसार बुधवार तक 17513 क्विंटल फसल की खरीद हो चुकी है। इसमें 8570 क्विंटल फसल की लिफ्टिंग की गई है और 98943 क्विंटल धान की फसल मंडी में पड़ी है। इसे बारिश से बचाने के लिए तिरपालों का ही सहारा है।

Edited By: Vinay Kumar