जेएनएन, लुधियाना। पंजाब के लुधियाना में नशे के खिलाफ एसटीएफ ने बड़ी सफलता हासिल की है। एसटीएफ ने 2 किलो 58 ग्राम हेरोइन तथा 7.5 लाख रुपये की ड्रग मनी के साथ तीन तस्करों को गिरफ्तार किया है। उनके खिलाफ दो केस दर्ज करके शुक्रवार को उन्हें अदालत में पेश किया गया, जहां से 2 दिन का रिमांड हासिल करके कड़ी पूछताछ की जा रही है।

एसटीएफ के डीएसपी अजय कुमार ने बताया कि आरोपितों की पहचान थाना मेहटियाना के गांव बडो निवासी दलजीत सिंह उर्फ माइकल उर्फ बंटू तथा मेहटियाना कि गांव पंजोर निवासी गुरप्रीत सिंह उर्फ रिंकू के रूप में हुई। शुक्रवार सुबह इंस्पेक्टर हरबंस सिंह को गुप्त सूचना मिली थी कि दोनों आरोपित लंबे समय से हेरोइन तस्करी करने का काला कारोबार कर रहे हैं। वह लोग आज भी अपने मोटरसाइकिल नंबर पीबी 24 जीएफ 8796 पर सवार होकर गांव बडो से फगवाड़ा की ओर जाने वाले हैं।

सूचना के आधार पर उनके खिलाफ मोहाली के एसटीएफ थाने में एफआइआर दर्ज करके फगवाड़ा होशियारपुर रोड बाईपास पर की गई नाकाबंदी के दौरान दोनों को काबू कर लिया गया। मौके पर पहुंचे डीएसपी अजय कुमार की मौजूदगी में तलाशी लेने पर उनके पिट्ठू बैग में से 1 किलो 980 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। इसके अलावा उनके कब्जे से 7.5 लाख की ड्रग्स मनी तथा एक छोटा इलेक्ट्रॉनिक कंडा भी बरामद किया गया।

पूछताछ के दौरान दलजीत सिंह ने बताया कि वह खुद भी हेरोइन नशा करने का आदी है। नशे की पूर्ति के लिए वह पिछले 3 साल से हेरोइन बेचने का काम करता आ रहा है। उसके खिलाफ पहले भी मारपीट का एक मामला दर्ज है, जिसमें वह भगोड़ा है। डीएसपी अजय कुमार ने कहा कि रिमांड दौरान पता लगाया जाएगा के यह लोग इतनी बड़ी मात्रा में हेरोइन कहां से लेकर आते थे और आगे किन-किन लोगों को बेचा करते थे। उनके इस गैरकानूनी कारोबार में और कौन-कौन लोग जुड़े हुए हैं।

दूसरी ओर एसटीएफ ने गुप्त सूचना के आधार पर बस्ती जोधेवाल के कैलाश नगर कट पर की गई नाकाबंदी के दौरान मोटरसाइकिल सवार को 78 ग्राम हेरोइन के साथ गिरफ्तार किया गया। उसकी पहचान कैलाश नगर की गली नंबर 2 में रहने वाले रवि बिज के रूप में हुई। एएसआइ जगतार सिंह और उनकी टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर की गई नाकाबंदी के दौरान उसे काबू किया। पूछताछ में उसने बताया कि उसके खिलाफ पहले से दुष्कर्म के दो मामले दर्ज हैं। वो करीब 2 साल से हेरोइन तस्करी का कारोबार करता रहा है।

Edited By: Kamlesh Bhatt