संस, लुधियाना : एसएस जैन स्थानक जनता नगर में विराजित श्री जितेंद्र मुनि म. के सानिध्य में मधुर वक्ता रचित मुनि ने कहा कि क्या आपको पता है कि मन के तार परमात्मा से क्यों नहीं जुड़ नही पाते। कौन से ऐसे बाधक तत्व हैं जो परमात्मा की अनुभूति में रुकावट पैदा करते हैं? जब सच्चे ज्ञान के प्रति साधक की जिज्ञासा बढ़ती है तभी वह सही लक्ष्य बिदु के रहस्य को बड़ी सरलता से समझ सकता है ।

रचित मुनि ने कहा कि यदि आप शराब पीते हैं, मांसाहार करते हैं, रिश्वत तक लेते हैं, अन्याय व अनीति से अपनी तिजोरी भरते हैं, छल-कपट व निदा करने में रस आता है तो आप परमात्मा से नहीं जुड़ सकते। मन को पवित्र किए बिना मन के तार परमात्मा से नहीं जुड़ेंगे। ध्यान रहे परमात्मा से संबंध तभी हो पाता है जब मन पवित्र, पावन निर्मल होगा। इसलिए असत्य को छोड़ो, बुराइयों को मिटाओ। अपने खान-पान को सात्विक बनाओ और अपने आचरण पावन करो।

Edited By: Jagran