संस, लुधियाना : आचार्य श्रीमद विजय वल्लभ सूरी समुदाय के वर्तमान गच्छाधिपति जैनाचार्य नित्यानंद सूरी, आचार्य भगवंत श्रीमद विजय वसंत सूरी. म.सा., आचार्य विजय जयानंद सूरी. महाराज सा. के सान्निध्य में सोमवार को पंचम पर्यूषण पर्व में महास्वप्नों की बोलियां का समारोह एसएएन जैन स्कूल प्रांगण में धूमधाम से मनाया गया। इसका आयोजन श्री आत्मानंद जैन चातुर्मास समिति व श्री आत्मानंद जैन महासभा,्र उत्तरी भारत के तत्वाधान में संपन्न हुआ। सर्व प्रथम मुनि मोक्षानंद म. ने गुरु वंदना की।

महाराज श्री ने कहा कि पंचम पर्व जैन समाज में विशेष महत्व रखता है। इस उत्सव की महत्ता यह है कि इस दिन भगवान महावीर स्वामी के जन्म से पहले उनकी माता त्रिशला ने 14 स्वप्न देखे थे। उनके स्वप्नों को लेकर 14 बोलियां लगाई जाती हैं। इसका लाभ आज 14 परिवारों ने लिया। उन्होंने कहा कि पंचम पर्यूषण की विशेषता पर प्रकाश डालते कहा कि हमें परमात्मा जन्म की खुशी मनानी चाहिए। इससे हमारे कर्म कटेंगे, और धर्म के प्रति श्रद्धा बढ़ेगी।

इस अवसर पर मुनि मोक्षानंद ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बोलियों में 14 स्वप्नों बोलियों को नीचे लाने का लाभ अमरनाथ जैन, प्रेम चंद जेन, संजय जैन अमरसंस इंटरनेशनल परिवार ने, जबकि चौदह स्वप्न बोलियां ग्रहण करने का लाभ इंद्र प्रकाश, सतपाल जैन, सुभाष जैन, शंकेश्वर हौजरी, मां लक्ष्मी की बोली का लाभ लाला शादी लाल, विजय कुमार, सतीश कुमार, भूषण कुमार, अश्वनी जैन बिटू, आईपी जैन, शुभम, अभिनव वीएस ओसवाल परिवार ने लिया। पालना के लाभार्थी कूपन का लाभ परिवार लाला कपूर आर के ओसवाल व हौजरी परिवार ने लिया। मुनीम की बोली का लाभ लभू राम, इंद्र कुमार, अशोक कुमार, राहुल जैन घोडे़वाले परिवार ने लिया।

इस अवसर पर जवाहर लाल ओसवाल, रमेश जैन बरड़, श्रीपाल जैन, अश्वनी जैन बिटू, सुरेंद्र मोहन जैन, विनोद जैन, अरुण जैन बबला, अश्वनी बिटू रत्‍‌न, संजय जैन अमरसंस, धर्मदेव, अशोक जैन शाल्स, संजीव जैन सीए, रमेश जैन बिट्टा, सीए राहुल जैन, नरेंद्र जैन निंदी, प्रवीण जैन दुग्गड़, मुकेश कुमार, नरेंद्र पाल बब, राज कुमार जैन स्वास्तिक इत्यादि सहित विभिन्न मंडलों के पदाधिकारियों ने भाग लिया।

Posted By: Jagran