जगराओं (लुधियाना), जेएनएन। कोरोना महामारी ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। पिछले तीन महीने में सूबे की आर्थिक हालात कमजोर हो गई है। लॉकडाउन दौरान हर तरफ पाबंदी रही। शिक्षण संस्थानों से लेकर बस सेवाएं बंद रहीं। कोरोना संकट के बीच आज भी कई लोग घर से काम रहे हैं। दूसरी ओर बस सेवा की छूट का कई बस ऑपरेटर गलत फायदा उठा रहे हैं। प्राइवेट बसें क्षमता से ज्यादा सवारियां भरकर धड़ल्ले से चल रही हैं। इस कारण लोगों को दोहरी मार झेलनी पड़ सकती है। एक तरफ कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा है तो दूसरी तरफ ओवरलोडेड बस कभी भी हादसे का शिकार हो सकती है।

बुधवार को जगराओं से गुजर रही प्राइवेट बसों सवारियां बुरी तरह ठूंसी हुईं थी। बस की छत पर भी लोगो के झुंड बैठे हुए नजर आ रहे थे। बस ड्राइवर व कंडक्टर ने मुनाफे के लालच में जरूरत से ज्यादा सवारियों को बस में चढ़ा लिया था। उन्होंने अपने साथ-साथ सैकड़ों लोगों की जिंदगी खतरे में डाल दी।

इस संबंध में बात करने पर पंजाब रोडवेज व पनबस के जीएम मनिंदरपाल सिंह ने बताया कि प्राइवेट कंपनियां ही जरूरत से अधिक सवारियां बिठाती हैं। उन्होंने कहा कि फिर भी वह इस मामले की जांच करवाएेंगे। कोरोना संकट में फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना चाहिए था। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बसों को पूरी सवारियां चढ़ाने की छूट दी है लेकिन प्राइवेट कंपनियाें की बसें मनमनर्जी कर रही है। इससे आने वाले समय में परेशानी और बढ़ सकती है।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Pankaj Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!