राजेश भट्ट, लुधियाना भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने 2019 लोकसभा चुनाव के लिए बिगुल फूंक दिया। वहीं लोकसभा चुनाव से ठीक पहले लुधियाना में हो रहे निगम चुनाव सांसद रवनीत सिंह बिट्टू के लिए किसी सेमीफाइनल से कम नहीं हैं। बिट्टू निगम चुनाव के जरिए लोकसभा चुनाव-2019 की रिहर्सल कर रहे हैं। वह एक-एक वार्ड में अपनी पार्टी के उम्मीदवारों का प्रचार करने के साथ एक तीर से तीन निशाना साध रहे हैं। वह प्रत्याशियों के समर्थन में प्रचार कर पार्टी को जता रहे हैं कि निगम चुनाव में भी काफी सक्रिय हैं। वहीं, जिस प्रत्याशी के लिए प्रचार कर रहे वह भी आगामी लोकसभा चुनाव में उनके साथ चलने को मजबूर होगा। इसी के साथ वह कार्यकर्ताओं से खुद मिलकर चुनावी जमीन को मजबूत कर रहे हैं। लुधियाना संसदीय क्षेत्र में कुल 13 लाख वोटर्स हैं, जिसमें से 9.50 लाख से ज्यादा मतदाता लुधियाना निगम क्षेत्र में हैं। लोकसभा चुनाव 2014 में रवनीत सिंह बिट्टू को 3 लाख के करीब वोट मिले थे, जिसमें से शहरी क्षेत्र में ही वह आगे रहे थे। इसलिए बिट्टू इस बार अपने शहरी वोट बैंक को अभी से पक्का करने में जुट गए हैं। निगम चुनाव के जरिए रवनीत सिंह बिट्टू के पास अपने संसदीय क्षेत्र के 9.50 लाख के करीब मतदाताओं तक पहुंचने का मौका है। बिट्टू भी इस मौके को भुनाने में लगे हैं और वह एक एक वार्ड में जाकर कार्यकर्ताओं व मतदाताओं से संपर्क साध रहे हैं। बिट्टू कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवारों के प्रचार के लिए सभी वार्डो में जनसभाओं के साथ-साथ कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें कर रहे हैं। बैठकों में वह कार्यकर्ताओं को पार्षद उम्मीदवारों को सहयोग करने को कह रहे हैं। पार्षदों की जीत से होगी बिट्टू की राह आसान शहरी क्षेत्र में यदि कांग्रेस के पार्षद जीतते हैं तो लोकसभा चुनाव से पहले उनके पास अपने क्षेत्र में विकास कार्य करवाने के लिए एक साल का वक्त होगा। ऐसे में कांग्रेसी पार्षदों की जीत बिट्टू की 2019 की राह आसान करेगी। इसी वजह से बिट्टू भी पार्षदों की जीत के लिए लगातार प्रचार में जुटे हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!