जेएनएन, लुधियाना। राहों रोड पर सीवरेज जाम की समस्या का समाधान न होने के कारण जोन डी में सात नंबर वार्ड की पार्षद व कमिश्नर के बीच जमकर बहस हुई। मामला इतना बिगड़ा कि कांग्रेसी पार्षद रविंदर कौर व उनके पति मोनू खिंडा बैठक बीच में ही छोड़कर बाहर आ गए। यही नहीं उन्होंने कमिश्नर को चेतावनी दे दी थी कि अगर राहों रोड पर सीवरेज की समस्या ठीक नहीं हुई तो वह इस्तीफा दे देंगे। मेयर बलकार सिंह संधू शहर में नहीं थे और जब वह शहर लौटे तो तुरंत नाराज पार्षद को मनाने उनके घर पहुंच गए।

मेयर ने पार्षद व उनके पति को भरोसा दिलाया कि जल्दी डिस्पोजल लगाकर समस्या का समाधान निकाल दिया जाएगा। इसके अलावा मीटिंग में हुए विवाद के बारे में भी कमिश्नर से बात करेंगे। नगर निगम कमिश्नर कंवलप्रीत कौर बराड़ व कांग्रेसी पार्षद रविंदर कौर के पति मोनू खिंडा के बीच मंगलवार को जमकर बहस हुई थी। बहस के बाद पार्षद और उनके पति बैठक से बाहर आ गए थे।

पार्षद रविंदर कौर ने कहा कि जब अफसरों ने उनकी बात ही नहीं सुननी तो उनका पार्षद रहने का क्या फायदा। क्योंकि लोग उन्हें पूछते हैं और जवाब भी उन्हें देना होता है। मोनू खिंडा ने बताया कि मेयर ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि जल्दी ही डिस्पोजल शुरू कर दिया जाएगा, ताकि राहों रोड पर सीवरेज की समस्या का समाधान हो सके। मेयर ने बताया कि पार्षद ने जो समस्या रखी है वह सभी अफसरों को पता है। पार्षद अपनी जगह ठीक हैं क्योंकि पब्लिक के प्रति सीधे उनकी जवाबदेही है। मेयर ने बताया कि इस मामले में कमिश्नर से भी बात करेंगे। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें