जासं, खन्ना : खन्ना फोकल प्वाइंट के दिन अब बदलने वाले हैं। फोकल प्वाइंट को एसपीवी स्कीम के अंतर्गत लाने के बाद अब 10.65 करोड़ की लागत से यहां के विकास के काम होने जा रहे हैं। इसके संयुक्त निरीक्षण के लिए सोमवार को चार विभागों की टीम फोकल प्वाइंट पहुंची। उनके साथ इंडस्ट्रीयल फोकल प्वाइंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान तजिदर शर्मा और अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

टीम ने फोकल प्वाइंट का दौरा कर फाइनल प्लान पर मुहर लगाई। इसमें एमएसएमई, सिडबी, पीएसआइसी और जिला उद्योग केंद्र के अधिकारी शामिल थे। एमएसएमई के सहायक निदेशक दीपक चेची ने बताया कि पंद्रह दिन में ग्रांट की पहली किस्त करीब दो करोड़ रुपये केंद्र सरकार से जारी होने की उम्मीद है। इसके बाद टेंडर लगा दिए जाएंगे। फोकल प्वाइंट के विकास पर 10.65 करोड़ रुपये खर्च होने जा रहे हैं। केंद्र सरकार का 80 फीसद शेयर

दीपक ने बताया कि कुल ग्रांट का 80 फीसद केंद्र सरकार की तरफ से और 20 फीसद पीएसआइसी की तरफ से दिया जाएगा। पीएसआइसी इंपलिमेट्री एजेंसी है और सारे विकास के काम इसी के जरिए होंगे। दो करोड़ के बाद एक संयुक्त जांच पूरे हो चुके कामों की होगी। इसके बाद अगली किश्त जारी कर दी जाएगी। सड़कों के अलावा और भी होंगे काम

दीपक चेची के अनुसार सड़कों के अलावा और भी कईं काम इस ग्रांट से होंगे। 9 करोड़ की लागत से सड़कों का निर्माण होगा। 29 लाख रुपये से एक कांफ्रेंस रूम बनेगा और बाकी पैसे से कुछ स्थानों पर चारदीवारी और स्ट्रीट लाइट का काम होगा। इसके साथ ही एक सोलर प्रोजेक्ट भी लगेगा। खन्ना फोकल प्वाइंट पंजाब का पहला फोकल प्वाइंट होगा, जिसमें इस योजना के तहत सोलर प्रोजेक्ट लगाया जा रहा है। कौन अधिकारी रहे मौजूद

निरीक्षण के दौरान एमएसएमई के सहायक निदेशक (क्लस्टर डिवेलपमेंट) दीपक चेची के साथ एमएसएमई के सहायक निदेशक राजेश कुमार, सिडबी से सिविल इंजीनियर पवन कुमार, पीएसआइसी से एसडीओ बलजीत सिंह, जिला उद्योग केंद्र से जसवंत सिह, फोकल प्वाइंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान तजिदर शर्मा, महासचिव विनोद गुप्ता, कोषाध्यक्ष तरसेम सिगला, सीनियर भाजपा नेता पवन विज भी मौजूद रहे। बाक्स के लिए..

फोटो - 4

साबित हो गया, केंद्र ने ही दिया साथ : सिगला

वरिष्ठ भाजपा नेता बलजिदर सिगला ने फोकल प्वाइंट की दशा को सुधारने के लिए आखिर केंद्र सरकार ने ही रुपये दिए। सिगला ने कहा कि यह अब साफ हो गया कि केवल भाजपा ही उद्योगपतियों और कारोबारियों की हितैषी पार्टी है। करोड़ों रुपये सालों से उद्यमी टैक्स दे रहे थे, लेकिन उनकी कांग्रेस ने सुध नहीं ली। पहले अकाली-भाजपा की प्रदेश सरकार ने सीवरेज के लिए 5 करोड़ दिए और अब करीब 10 करोड़ रुपये केंद्र सरकार दे रही है। पंजाब सरकार ने बजट में घोषणा के बावजूद खन्ना फोकल प्वाइंट को कुछ नहीं दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!