जागरण संवाददाता, खन्ना: देश की आजादी में सिखों की ओर से अपना 90 प्रतिशत योगदान डालने के बावजूद आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के बाद भी केंद्र के साथ आम आदमी पार्टी दोहरा रवैया अपना रही है।

यह बातें ईसडू में गोवा शहीद करनैल सिंह ईसडू तथा भुपिदर सिंह ईसडू को श्रद्धाजंलि देने पहुंचे सांसद एंव शिरोमणी अकाली दल अमृतसर के राष्ट्रीय प्रधान सिमरनजीत सिंह मान ने कहीं। मान ने कहा कि एक ओर जहां पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारे को 31 साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने रिहा करने के आदेश दिए हैं वहीं दूसरी ओर अपनी सजा पूरी करने के बाद भी 25-30 साल से बंदी सिंह रिहाई के इंतजार में है जोकि सिख कौम के साथ अन्याय है।

मान ने कहा कि शिरोमणी गुरुद्वंारा प्रबंधक कमेटी पर मसंदो और महंतो का कब्जा है जिसके चलते पिछले कई सालों से चुनाव नहीं करवाए जा रहे। सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब से एसजीपीसी को कब्जा मुक्त करवाने के लिए 15 सितंबर को श्री दरबार साहिब में बड़ी कांफ्रेंस की जाएगी। इस मौके राष्ट्रीय महासचिव करनैल सिंह नारीके, जिला प्रधान जसवंत सिंह लुधियाना, वरिदर सिंह सेखों, भूपिदर सिंह फतेहपूर, शिगारा सिंह बढला, गुरचरण सिंह साहनेवाल, प्रगट सिंह रब्बों, मुहम्मद कुरैशी, गुरजंट सिंह कट्टू पीए, बलविदर सिंह काका, वीर दविदंर सिंह भंगू, जत्थेदार प्रीतम सिंह मानगढ़, लखबीर सिंह सौंटी, सुरजीत सिंह धमोट, रामपाल सिंह दौलतपूर, जत्थेदार गुरमेल सिंह खन्ना, सरपंच परमजीत सिंह सलार, जतिदर सिंह बिजलीपुर भी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran