लुधियाना, जेएनएन। क‌र्फ्यू के कारण औद्योगिक गतिविधियां बंद हैं। बावजूद इसके उद्यमी अपने कर्मियों को राशन उपलब्ध कराने एवं एडवांस देने का इंतजाम करने में जुटी हैं। उद्यमियों का तर्क है कि संकट के दौर में अपने श्रमिकों की मदद करना उनकी जिम्मेदारी है, लेकिन इसको लेकर प्रशासन की ओर से कुछ ढील दिए जाने की आवश्यकता है।

एचआर और अकाउंट के लोग फैक्टरियों तक जा सकें और लेखा जोखा देखकर पैसे ट्रांसफर कर सकें। वहीं कुछेक कंपनियों की ओर से अपनी कंपनी के वालंटियर कर्मचारियों के घरों में भेजे जा रहे हैं, ताकि उनको राशन और पैसे पहुंचाए जा सकें। सीआइसीयू के प्रधान उपकार सिंह आहुजा ने कहा कि जिन कर्मचारियों के बैंक खाते हैं, उनके अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर दिए गए हैं। जबकि अधिकतर कर्मचारियों के पास खाते नहीं है। ऐसे में कार्यालय में अकाउंट स्टाफ और किसी तरह की आवाजाही बंद है। ऐसे में कैसे कैश कर्मचारियों को दिया जाए। इसको लेकर डिप्टी कमिश्नर से वार्ता जारी है और कर्मचारियों का डाटा निकालकर कुछ लोगों को घर में ही पैसे भेजने पर भी विचार किया जा रहा है।

यूसीपीएमए के प्रधान डीएस चावला के मुताबिक यह बेहद कठिन दौर है। ऐसे में हम लेबर को जरूरी सामान देने के लिए तत्पर हैं। प्रशासन की ओर से किसी तरह की ढील नहीं दी जा रही। इसको लेकर हमने मुख्यमंत्री और डीजीपी को पत्र लिखा है। फीको प्रधान गुरमीत सिंह कुलार के मुताबिक इस दुख की घड़ी में अपने परिवार की भांति अपने स्टाफ के साथ खड़ी है। हमारा प्रयास है कि हर किसी को जरूरत का सामान मुहैया करवाया जाए।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!