रायकोट, जेएनएन। जिले की कई अनाज मंडियों में गेहूं की आमद तो शुरू हो गई है लेकिन बारदाना उपलब्ध न होना आढ़तियों की बड़ी समस्या बना हुआ है। बारदाने की आ रही शिकायतों के बाद डिस्ट्रिक्ट फूड कंट्रोलर (डीएफसी) लुधियाना पश्चिमी सुखविंदर सिंह गिल ने अनाज मंडियों का दौरा किया और आढ़तियों को भरोसा दिलाया कि लुधियाना में बारदाने की कोई कमी नहीं आने दी जाएगी। जैसे-जासे गेहूूं की खरीद तेजी पकड़ेगी, उसी रफ्तार के साथ मंडियों में बारदाना मुहैया करवाया जाएगा।

गिल ने कहा कि जिले में गेहूं की खरीद पूरे सिस्टम के साथ चल रही है। कोविड के मद्देनजर जिले के अंदर 108 मंडियों के अलावा 124 आरजी नाइट यार्ड बनाए गए हैं। इनमें 1.75 लाख मी. टन से भी ज्यादा गेहूं की खरीद हो चुकी है। गेहूं की लिफ्टिंग भी निर्विघ्न चालू है और अदायगी भी शुरू कर दी गई है। इसके इलावा मंडियों में जरूरत का बारदाना भी लगातार भेजा जा रहा है।

डीएफसी ने किसानों से अपील करते कहा कि उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। मंडियों में फिजिकल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए ही फसल को मंडी में लाएं। इसके इलावा मौसम को देखते हुए फसल की कटाई करके मंडियों में लाया जाए। उन्होंने भरोसा दिया कि किसानों की फसल का एक-एक दाना खरीदा जाएगा। समूह खरीद एजेंसियाँ के अधिकारी कर्मचारी इस काम को पूरा करने में दिन रात लगे हुए हैं। इस समय आढ़ती एसोसिएशन की तरफ से सरकार की तरफ से किये प्रबंधों और तसल्ली का दिखावा किया गया। इस मौके दूसरे के इलावा प्रधान विनोद कत्याल, नितिन कुमार गोयल, मनोज कुमार, कीमती लाल, सुदर्शन कुमार, सहायक ख़ुराक और सिवल स्पलाई स्पलाई अफ़सर चरनजीत सिंह, निरीक्षक पनगरेन जसविन्दर कुमार, मारकफैड, पनसप, वेयर हाऊस आदि खरीद एजेंसियाँ के आधिकारियों के इलावा आढ़ती एसोसिएशन के ओर कई नुमायंदे उपस्थित थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप