जासं, लुधियाना। लुधियाना के साइकिल एवं साइकिल पार्टस बनाने वाले 200 के करीब साइकिल निर्माताओं ने देश की एक बड़ी साइकिल निर्माता कंपनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। आरोप है कि कंपनी ने उनसे मटीरियल लेकर पैसे वापस नहीं किए हैं। पंजाब से बाहर की इस कंपनी ने लुधियाना साइकिल उद्योग को 125 करोड़ रुपये के करीब का भुगतान करना है लेकिन लंबे अर्से से टालमटोल कर रही है। कई कंपनियों को पिछले दो साल से पेमेंट नहीं मिली है। 

लुधियाना की इंडस्ट्री के प्रतिनिधियों ने भुगतान के लिए कंपनी संचालकों से कई बार संपर्क किया लेकिन वे अब तक खाली हाथ है। उन्हें उनका भुगतान नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में अब सारी साइकिल इंडस्ट्री ने लामबंद होकर इस कंपनी के खिलाफ घेराबंदी का मन बना लिया है। इसे लेकर इंडस्ट्रियल ग्रुपों में भी चर्चा का दौर जारी है। अब इस केस को एमएसएमई डवलपमेंट कमेटी प्लेटफार्म पर ले जाया जा रहा है।

डीसी के सामने मामला लाकर कंपनी पर केस करने की तैयारी

उद्यमियों का कहना है कि लुधियाना के डिप्टी कमिश्नर वरिंदर कुमार शर्मा के समक्ष इस मामले को ले जाकर कंपनी के खिलाफ केस दर्ज करने की प्रक्रिया पर काम किया जाएगा ताकि इंडस्ट्री को समय पर उनकी पेमेंट्स मिल सके। मामले को लेकर सभी उद्यमियों को एकजुट करने के लिए हर किसी को अपने बकाए की जानकारी दस्तावेजों के साथ देने के लिए कहा गया है ताकि केस करते समय सारी कंपनियों के बकाए पर चर्चा हो सके।

इंडस्ट्री को एक प्लेटफार्म पर लाकर कानूनी लड़ाई लड़ेंगे

यूनाइटेड साइकिल एवं पार्टस एसोसिएशन के महासचिव मनजिंदर सिंह सचदेवा ने कहा कि लंबे अर्से से इंडस्ट्री के करोड़ों रुपये अटके हुए हैं और अब डिप्टी कमिश्नर वरिंदर शर्मा के माध्यम से इंडस्ट्री की लटकी पेमेंट को निकालवाने का काम किया जाएगा। इसके लिए सारी इंडस्ट्री को एक प्लेटफार्म पर लाकर केस किया जाएगा।

यह भी पढ़ें - Rail Roko Andolan: रेलवे ट्रैक पर बैठे किसान, जालंधर में कई ट्रेनों को रोका; यात्री परेशान

Edited By: Pankaj Dwivedi