जेएनएन, पटियाला। रोजगार की मांग को लेकर पटियाला स्थित सीएम आवास का घेराव करने पहुंचे बेरोजगार अध्यापकों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इस दौरान बेरोजगार अध्यापकों ने पंजाब सरकार खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आगे बढ़ने से रोकने के लिए पुलिस ने 50 से ज्यादा बेरोजगार अध्यापकों को हिरासत में ले लिया है। इन बेरोजगारों को हिरासत में लेकर पुलिस की तरफ से भून्नरहेड़ी चौकी में रखा गया है। बेरोजगारों का कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होती तब तक वह इसी तरह संघर्ष करते रहेंगे।

बेरोजगार साझा मोर्चा के बैनर तले बेरोजगार मल्टीपर्पज हेल्थ वर्कर यूनियन, बेरोजगार आर्ट एंड क्राफ्ट यूनियन, बेरोजगार डीपीई 873 यूनियन, बेरोजगार 646 पीटीआइ यूनियन और बीएड टीईटी पास बेरोजगार अध्यापक यूनियन की तरफ से पिछले सौ दिनों से शिक्षा मंत्री विजय इंदर सिंगला के आवास संगरूर में पक्का धरना दिया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, 9वीं से 12वीं कक्षा तक के बच्चों को इसी सत्र से मिलेगी मुफ्त शिक्षा

बेरोजगारों की रोजगार की मांग को पूरा करने के लिए बीते दिनों मुख्यमंत्री के ओएसडी की तरफ से मीटिंग का भरोसा दिया गया था, लेकिन मीटिंग में उनकी मांग का कोई भी हल न होने पर रविवार को बेरोजगारों की तरफ से सीएम आवास के घेराव का ऐलान किया गया था। रविवार 12 बजे के करीब बेरोजगाराें के दो ग्रुप पटियाला के बारांदरी गार्डन और सरकारी राजिंदरा अस्पताल में प्रदर्शन कर रहे थे। इसके बाद बेरोजगारों द्वारा सीएम आवास की तरफ रोष मार्च शुरू किया गया।

यह भी पढ़ें: कोटकपूरा गोलीकांड मामले में पंजाब सरकार को झटका, हाई कोर्ट ने खारिज की जांच रिपोर्ट, नई SIT बनाने के आदेश

जैसे ही बेरोजगारों का काफिला पोलो ग्राउंड के आगे पहुंचा तो वहां बड़ी संख्या में खड़ी पुलिस फोर्स की तरफ से उनको आगे बढ़ने से रोकने की कोशिश की गई, परंतु बेरोजगार आगे जाने की मांग पर अड़े रहे। बेरोजगारों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए पुलिस फोर्स ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया। इस दौरान 50 के करीब बेरोजगार अध्यापकों को पुलिस ने हिरासत में भी ले लिया है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीनेशन सिर्फ 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का ही क्यों, पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में उठा सवाल