जागरण संवाददाता, लुधियाना। Kisan Rail Roko Andolan पंजाब में किसानाें के धरने के चलते छठे दिन भी ट्रेनों का चक्का जाम रहा। ट्रेनें नहीं चलने से यात्रियों का सफर अधर में लटक कर रह गया है। लुधियाना रेलवे स्टेशन से रोजाना सैकड़ों यात्री निराश होकर लौट रहे हैं। वहीं टिकट रिफंड करवाने के लिए भी प्रतिदिन यात्रियों का हुजूम उमड़ रहा है। अब लोग रेल सफर से भी परेशान हो चुके हैं। स्टेशन आकर सूचना मिलने की ट्रेनें नहीं है तो लोग मुश्किल में आ जाते हैं। बार-बार ट्रेनों का कैंसिल होने से सफर करने वाले यात्री आक्रोशित हो चुके हैं।

यात्री विमल पांडे, जसवंत सिंह, ओंकार सिंह व अमरजीत सिंह आदि ने कहा कि लाेगाें काे परेशान करने के लिए रेल रोकना सरल माध्यम बन चुका है। पहले कोविड और अब किसानों की मांगों को लेकर ट्रेनों का आवागमन ठप होने से आम पब्लिक मुश्किल में है। शनिवार को दर्जनों यात्री निराश होकर रेलवे स्टेशन से लौटते हुए नजर आए। यात्री बलकार सिंह ने कहा कि ट्रेनों का आवाजाही ठप होने से उनका बिजनेस चौपट होकर रह गया है।

नार्दन रेलवे का निर्देश रेल ट्रैक चेक होने के बाद होगा ट्रेनों का परिचालन

किसान आंदोलन से नॉर्दन रेलवे चिंतित है। रेल ट्रैक पर जगह-जगह ट्रैक्टर लेकर ट्रैक पर दौड़ाना ट्रेन आवाजाही के लिए खतरा है। नॉर्दन रेलवे ने निर्देश जारी किया है कि पहले सभी रेल ट्रैक को चेक कर सुरक्षा प्रबंध पुख्ता किए जाए उसके बाद ट्रेनों का परिचालन शुरू होगा। रेल अधिकारी बताते हैं कि अमृतसर, फरीदकोट व माेगा के पास किसान रेल ट्रैक पर ट्रैक्टर लेकर गए है। पहले रेल ट्रैक की मरम्मत होगी और सभी पहलुओं से जांच करने बाद रिपोर्ट नॉर्दन रेलवे को भेजा जाएगा।

आंदोलन खत्म होने के बाद ही ट्रेनों का परिचालनः डीआरएम

फिरोजपुर रेल मंडल के डीआरएम सीमा शर्मा ने कहा कि किसान आंदोलन खत्म होने के बाद ही ट्रेनों का परिचालन हो पाएगा। किसानाें ने रेल ट्रैक पर बैठकर ट्रैक की सुरक्षा प्रबंधों को नुकसान पहुंचाया है, जिससे सुरक्षा प्रबंध पुख्ता करने के बाद ही ट्रेनों का परिचालन हो पाएगा।

Edited By: Vipin Kumar