लुधियाना, जेएनएन। सामूहिक दुष्कर्म मामले में मंगलवार को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रशमी शर्मा की अदालत में जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर जरनैल सिंह के बयान दर्ज किए गए। बचाव पक्ष के वकीलों ने उन पर जिरह भी पूरी कर ली। इसके बाद अदालत ने मामले की सुनवाई 25 जनवरी तक स्थगित कर दी।

यह भी पढ़ें -  Road Accident in Ludhiana: लुधियाना में सेखेवाल गेट के पास पैदल जा रहे व्यक्ति को अज्ञात वाहन ने कुचला

अब तक पीड़िता और चश्मदीद सहित 27 गवाहों के बयान अदालत में दर्ज किए जा चुके हैं। थाना दाखा पुलिस ने 10 फरवरी 2019 को पीड़िता की शिकायत पर नवांशहर के गांंव मुकंदपुर के सादिक अली, गांव जसपाल बांगड़ के जगरूप सिंह उर्फ रूपी, उत्तर प्रदेश के अजय उर्फ बृज नंंदन, हिमाचल प्रदेश के सैफ अली और डेहलों के गांव खानपुर के सूरमा के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज किया था।

यह भी पढ़ें -   लुधियाना में घर में घुस कर नाबालिग से दुष्कर्म करने आया परिजनों ने दबोचा, जमकर की पिटाई

पीड़िता ने बयान में कहा था कि नौ फरवरी की रात को वह अपने दोस्त के साथ गांव ईसेवाल नहर के पास पहुंची। यहां मोटरसाइकिल सवार आरोपितों ने उनकी कार को रोककर ईंट से हमला कर दिया। दो आरोपितों ने कार का स्टीयरिंग पकड़ लिया और अपने अन्य साथियों को वहां बुला लिया।

आरोपितों ने उसके दोस्त को कार की पिछली सीट पर बंदी बना लिया और उसे उठाकर सुनसान प्लाट में ले गए। दस लोगों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021