लुधियाना, जेएनएन। केंद्रीय एमएसएमई मंत्री संग शहर के उद्यमी वेबिनार के जरिए रूबरू हुए। यह आयोजन आइएमएसएमई दिल्ली की ओर से आयोजित किया गया था, इसमें लुधियाना से भी भारी संख्या में उद्यमी जुड़े और नितिन गडकरी संग सीधा संवाद किया। इस दौरान सरकार की ओर से दिए गए 20 लाख करोड़ के पैकेज की प्रशंसा की गई, लेकिन राहत को देने के तरीके को वाजिब नहीं बताया गया।

उद्यमियों ने कहा कि हम पहले से ही लोन लेते आ रहे हैं, इस दौरान हमें लोन नहीं राहत की जरूरत है। अगर इंडस्ट्री को संकट से बाहर निकालना है, तो हमें दो साल तक बिना ब्याज के लोन दिया जाए। साथ ही बंद के दौरान तीन महीने के लिए लॉक डाउन की भांति बैंक ब्याज में राहत देनी चाहिए।

इसके साथ ही सरकार की ओर से ईपीएफ में योगदान की बात कही गई है, लेकिन इसमें ऐसी शर्ते लगाई गई है, जिससे बेहद कम लोगों को इसका लाभ मिल पाएगा। ऐसे में इस समय शर्तो की बजाए सारी इंडस्ट्री को ध्यान में रखकर राहत देने को प्रयास करने चाहिए।

केंद्रीय मंत्री के सामने टर्नओवर के मुताबिक पैकेज की मांग की गई। इसमें माइक्रो को 25, स्माल को 20, मीडियम को 15 और लार्ज को 10 प्रतिशत राहत मांगी गई। साथ ही इस अवधि में ब्याज दरों पर राहत की मांग की गई। क्रेडिट लिंक कैपिटल सबसिडी स्कीम को दोबारा चालू करने, अप्रैल के वेतन में 50 प्रतिशत योगदान प्रदेश और केंद्र सरकार की ओर से देने की मांग की गई।

इस दौरान नितिन गडकरी ने कहा कि वे इंडस्ट्री की सुविधाओं के लिए अहम योगदान दे रहे है। इंडस्ट्री की ग्रोथ को रोडमैप तैयार किया जाएगा। इस दौरान राजीव चावला, गुरमीत सिंह कुलार, राजीव जैन, केके सेठ, हरजीत सिंह सौंद, विपिन मित्तल, मनजिंदर सिंह सचदेवा, बलदेव सिंह अमर, दिनेश सिंह भोगल, सतनाम सिंह मक्कड़, अशप्रीत सिंह साहनी, बलबीर सिंह मनकू, अजीत लाकड़ा, गगनीश सिंह खुराना, गुरमुख सिंह, गुरविंदर सिंह व जपनीत सिंह उपस्थित रहे। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sat Paul

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!