संवाद सहयोगी, जगराओं : देश की एकता तथा अखंडता के लिए जीवन का बलिदान देने वाले शहीद पुलिस जवानों को याद करने के लिए प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को बलिदान दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी संदर्भ में वीरवार को पुलिस जिला लुधियाना देहात के प्रभारी एसएसपी राजबचन सिंह संधू के नेतृत्व में श्रद्धांजलि समारोह स्थानीय पुलिस लाईन में आयोजित किया गया। इसमें विशेष तौर पर लुधियाना रेंज के आइजी एसपीएस परमार पहुंचे। आइजी परमार और एसएसपी संधू ने शहीद पुलिस जवानों को श्रद्धांजलि भेंट करते हुए कहा कि पंजाब में आतंकवाद के समय में हालात ऐसे बेकाबू हो चुके थे कि हर कोई अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लगा था। उस समय बहादुर पुलिस जवानों ने अपनी जान पर खेलते हुए पंजाब में अमन शांति बहाल की। आतंकवाद की लड़ाई और देश की एकता व अखंडता के लिए शहीद होने वाले पुलिस अधिकारियों/कर्मचारियों याद रखना हमारा फर्ज है। इन शहीदों की कुर्बानी के कारण ही आज पंजाब में अमन शांति का माहौल है। इस समय विधायक सर्वजीत कौर माणूके, एसडीएम विकास हीरा, एसपीडी बलविदर सिंह, एसपी हेड क्वार्टर हरिदरपाल सिंह परमार, एसपी पीबीआई राजवीर सिंह, एसपी गुरमीत कौर, डीएसपी दलजीत सिंह खख, तहिसीलदार मनमोहन कौशिक , नैब तहिसीलदार वाहेगुरु पाल सिंह, गुरकीरत कौर, चेयरमैन केके बावा, समाजसेवी रजिदर जैन, ब्लॉक कांग्रेस प्रधान रविदर कुमार सभ्रनवाल, गुलशन अरोडा, आरके हाई स्कूल के प्रिसिपल कैप्टन नरेश वर्मा के अलावा रिटायर पुलिस मुलाजम जत्थेबंदी, बार कौंसिल, सीनियर सिटीजन, जिले के गजटिड अधिकारी तथा शहीद हुए पुलिस कर्मचारीओं के परिवारों के सदस्य शामिल हुए। इस समय उप पुलिस कप्तान दलजीत सिंह खख द्वारा पिछले समय में ड्यूटी दौरान शहीद हुए सभी फोर्स के 576 अधिकारी/ जवानों के नाम पढ़े। पुलिस टुकड़ी ने शहीदों को सलामी दी और सभी ने दो मिनट का मौन धारण कर शहीदों को याद किया। आइजी परमार और एसएसपी संधू ने सभी शहीद परिवारों के सदस्यों को सम्मानित किया और उनकी मुश्किलें सुनीं।

Edited By: Jagran