जागरण संवाददाता, लुधियाना। पंजाब विधानसभा चुनाव के नजदीक आते ही शिअद नेत्री व पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने राजनीतिक सक्रियता बढ़ा दी है। गत दिवस हरसिमरत कौर जालंधर में थीं। वीरवार को लुधियाना के दौरे पर उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आम आदमी पार्टी प्रमुख एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जमकर निशाना साधा। हरसिमरत ने कैप्टन अमरिंदर सिंह पर भाजपा से मिलीभगत का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कैप्टन और भाजपा की मिलीभगत इस बात से स्पष्ट होती है कि उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद स्विस बैंक खाते में काला धन, ईडी और आईटी केस ठंडे बस्ते में डाल दिए गए। इससे दोनों की डील साफ नजर आती है। हरसिमरत ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को बरसाती मेंढक करार दिया। उन्होंने कहा कि वह पंजाब के लोगों को बरगलाने में लगे हुए हैं। 

लुधियाना स्थित गुरुद्वारा फेरूमान में शिअद महिला विंग की ओर से आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में हारने के बाद अरविंद केजरीवाल गायब हो गए। अब चार साल बाद उन्हें चुनाव के समय पंजाब की याद आई और बरसाती मेंढक की तरह टपक गए। अब लोगों को झूठी गारंटी दे रहे हैं। पंजाब के लोगों को झूठे प्रलोभन के जरिए दिगभ्रमित कर रहे हैं, लेकिन पंजाबी उनकी चालों में आने वाले नहीं।

उन्होंने महिलाओं से कहा कि ऐसे मेंढकोंं से सावधान रहें और उनकी बातों में न आएं। हरसिमरत ने कहा कि केजरीवाल दिल्ली माडल लाने की बात करते हैं, लेकिन दिल्ली की हालत खराब है। वहां की जनता जानती है कि उन्होंने क्या किया। मोहल्ला क्लीनिक की बात करते हैं, जबकि दिल्ली में सेहत के मामले में इतने एक्टिव थे तो कोरोना काल में वहां लाशोें के ढेर क्यों लगे।

हरसिमरत कौर बादल ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने पांच सालों में पंजाब पर लगे कर्ज को कम करवाने के बजाय और ज्यादा बढ़ा दिया। पांच सालों में एक लाख करोड़ का कर्ज बढ़ा है, लेकिन शिअद-बसपा की सरकार सत्ता में आने के बाद पंजाब के सिर लगे कर्ज को कम करेगी। उन्होंने कहा कि पहले कैप्टन ने झूठे वादे किए और अब चन्नी सरकार कर रही है। उन्होेंने एक भी चुनावी वादे को पूरा नहीं किया। अब चुनाव देख दनादन घोषणाएं कर रहे हैं। हरसिमरत ने कहा कि पहले यह खजाना खाली होने की बात करते रहे और अब घोषणाएं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार का खजाना कभी खाली नहीं होता, सिर्फ काम करने की नीयत और विजन चाहिए।

Edited By: Kamlesh Bhatt