जागरण संवाददाता, लुधियाना। फेडरेशन आफ इंडस्ट्रीयल एवं कमर्शियल आर्गनाइजेशन (फीको) ने ईपीएफओ वेबसाइट काे अपग्रेड करने की मांग की है। फीको के प्रधान गुरमीत सिंह कुलार और वाइस चेयरमैन विपन मित्तल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि ईपीएफओ की वेबसाइट को अपग्रेड किया जाए, ताकि कारोबारियों के साथ साथ कर्मचारियों को इससे संबंधित कार्याें के लिए परेशानियों का सामना न करना पड़े।

उन्होंने कहा कि अंतिम तिथियों में ईपीएफओ वेबसाइट के कार्यशीलता के संबंध में समस्या का सामना करना पड़ रहा है, ऐसा प्रतीत होता है कि जब अंतिम तिथियों के दौरान उपयोगकर्ताओं का ट्रैफिक बहुत अधिक होता है तो ईपीएफओ की वेबसाइट अपने आप धीमी हो जाती है और उपयोगकर्ताओं को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ईपीएफओ कोई छोटा संगठन नहीं है, हम ईपीएफओ की वेबसाइट से इस तरह की समस्याओं की उम्मीद नहीं करते हैं। इससे एमएसएमई सेक्टर सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहा है। एमएसएमई सबसे कमजोर हैं, वे पहले ही पूरे देश में कवीड -19 लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित हैं।

एमएसएमई सीमित संसाधनों में काम करता है। एक अप्रैल 2021 से प्रभावी आयकर अधिनियम में संशोधन किया गया है, जिसमें कहा गया है कि यदि कर्मचारी पीएफ का हिस्सा उक्त अवधि के भीतर जमा नहीं किया गया है, तो कटौती की गई राशि को कंपनी की आय के रूप में गिना जाएगा, जो कंपनियों के लिए बहुत कठोर है और फीको ने राशी का भुगतान एनईएफटी/आरटीजीएस द्वारा भी करने का प्रावधान करने का अनुरोध किया, क्योंकि वेबसाइट पर उपलब्ध ऑनलाइन भुगतान विकल्प उद्देश्य की पूर्ति नहीं कर पा रहा है। यह ज्ञापन वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण, श्रम और रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव, वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री नारायण तातू राणे को भेजा गया है।

यह भी पढ़ें-Eid al-Adha 2021: लुधियाना की ऐतिहासिक जामा मस्जिद में ईद-उल-अजहा की नमाज अदा, शाही इमाम ने कही बड़ी बात

 

 

Edited By: Vipin Kumar