जागरण संवाददाता, बठिंडा, मानसा। Arvind Kejriwal In Punjab: आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के किसानों और मजदूरों से अपील की है कि वह किसी भी कारण से खराब हुई फसल से निराश होकर आत्महत्या न करें। केजरीवाल ने दावा किया कि एक अप्रैल, 2022 के बाद पंजाब के किसान और मजदूर आत्महत्या करने के लिए मजबूर नहीं होंगे। अगर वर्तमान पंजाब सरकार किसानों को फसलों के खर्च के हिसाब से मुआवजा नहीं देती है तो पंजाब में आप की सरकार बनने पर 30 अप्रैल, 2022 तक किसानों को बनता मुआवजा दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि वह जो कहते हैं, करके दिखाते हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल वीरवार को मानसा में किसानों के के रू-ब-रू हुए। किसानों का मुआवजा कितना होगा, इसे लेकर पहले किसानों के साथ बातचीत कर लागत के अनुसार मुआवजा राशि तय की जाएगी। दिल्ली में आप सरकार बनने पर खराब हुईं फसलों के लिए किसानों को 18 से 20 हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवजा दिया गया था। केजरीवाल ने दावा किया कि आप सरकार नकली दूध, पशुओं का बीमा व पराली का समाधान भी करेगी। पराली से बिजली व गत्ता बनाने, खेती आधारित उद्योग और डीएपी खाद के कारखाने लगाए जाएंगे।

पंजाब की खेती के विकास के लिए आप विशेष योजना बना रही है और इसका एलान अगले महीने में किया जाएगा। उन्होंने कहा, 'केजरीवाल केवल बोलता ही नहीं है बल्कि काम भी करके दिखाता है।' इससे पूर्व अरविंद केजरीवाल ट्रेन से संगरूर पहुंचे और आप के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद भगवंत मान के घर गए। यहां आप विधायकों के साथ बैठक की। इस मौके पर पार्टी के पंजाब मामलों के प्रभारी जरनैल सिंह, सह प्रभारी राघव चढ्डा, नेता विपक्ष हरपाल सिंह चीमा, किसान विंग पंजाब के अध्यक्ष कुलतार सिंह, विधायक प्रोफेसर बलजिंदर कौर मौजूद थीं।

यह भी पढ़ें-SGPC अध्यक्ष बीबी जगीर कौर का कांग्रेस पर हमला, कहा- चरणजीत सिंह चन्नी सिर्फ अनाउंसमेंट वाले सीएम

नकल करने वालों की बातों में न आएं पंजाब के लोग

पंजाब में मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर हमलावर केजरीवाल ने कहा कि चन्नी ने किसानों के साथ खेतों में तस्वीर खिंचवा कर बसों पर भी लगवा दी। परंतु खराब फसल का मुआवजा नहीं दिया। उन्होंने कहा कि नकल करना आसान है लेकिन अमल करना बहुत मुश्किल है। पंजाब के लोग नकल करने वालों की बातों में न आएं क्योंकि उनके सामने केजरीवाल खड़ा है। - यह रैली या शक्ति प्रदर्शन नहीं : मान सांसद भगवंत मान ने कहा कि किसानों के साथ केजरीवाल की बातचीत रैली या शक्ति प्रदर्शन नहीं है। यह कार्यक्रम किसानों, खेत-मजदूरों और कृषि के संकट, समस्या व उसके समाधान के लिए सुझाव जुटाने का गंभीर प्रयास है। जिसके आधार पर पार्टी अपना चुनाव घोषणा पत्र तैयार करेगी।

यह भी पढ़ें-हरियाणा में 3 महिलाओं की माैत के बाद मानसा में पसरा मातम, किसानाें के धरने से लौटते समय तेज रफ्तार ट्रक ने कुचला

Edited By: Vipin Kumar