लुधियाना, जेएनएन। Ludhiana GST Scam: डायरेक्टोरेट आफ जीएसटी इंटेलीजेंस ने 630 करोड़ रुपये की बोगस बिलिंग का पर्दाफाश किया है। प्लाईवुड कारोबारी बरिंदर सिंह ने फर्जी इनपुट टैक्स क्रेडिट (आइटीसी) के जरिये सरकार को 98 करोड़ रुपये का चूना लगाया है। जीएसटी इंटेलीजेंस की टीम ने बरिंदर को गिरफ्तार कर लिया है। अदालत ने आरोपित को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

35 अधिकारियों की टीम ने कारोबारी के 16 ठिकानों पर की थी छापामारी

इंटेलीजेंस अधिकारी बरिंदर सिंह को माल की सप्लाई करने वाली और खरीद करने वाले कारोबारियों का भी पता लगा रहे हैं। आने वाले दिनों में कई महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आ सकती हैं। एडीशनल डायरेक्टर रितुराज गुप्ता और ज्वाइंट डायरेक्टर दलजीत कौर की अगुआई में 35 अधिकारियों की टीम ने मंगलवार को कारोबारी के 16 ठिकानों पर छापामारी की थी।

नौकरी छोड़ चुके मुलाजिमों के नाम पर बनाई फर्में

जांच में पता चला कि उसने 12 फर्जी फर्में बना रखी हैं। यह फर्में उसने नौकरी छोड़ चुके मुलाजिमों के नाम पर बनाई हैं। इन फर्माें के एड्रेस गांव कटानी कलां, संगोवाल, मेहरबान, नूरपुर बेट, बैंस आदि के बताए थे। जांच में यह सब फर्जी पाए गए। कारोबारी व उसके परिवार के नाम पर कुल तीन फर्मे हैं। इन फर्मो में सर्कूलर ट्रे¨डग के जरिये 630 करोड़ रुपये की फर्जी बि¨लग की गई है। छापामारी के दौरान उसके ठिकानों से कई इलेक्ट्रोनिक्स डिवाइस भी मिले हैं।

फर्जी फर्मो की बना डाली चेन 

कारोबारी ने तीन टिंबर व प्लाईवुड फर्माें से आगे छह फर्माें को फर्जी बिलिंग की। इन छह फर्मो ने आगे छह फर्मो को फर्जी बिलिंग कर डाली। बाद की छह फर्माें ने फिर से पहली तीन फर्माें को बिलिंग कर दी। इस तरह फर्जी फर्माें की चेन बनाकर सरकार को करोड़ों रुपये का चूना लगा दिया। कारोबारी सभी फर्माें के बैंक खातों को खुद मैनेज करता था।

यह भी पढ़ें-यूपी पुलिस ने नेपाल बॉर्डर पर मुक्त कराई नाबालिग, लुधियाना से चार दिन पहले शादी का झांसा दे अगवा कर ले गया था जीजा

 

Edited By: Vipin Kumar