जागरण संवाददाता, लुधियाना। सिविल अस्पताल की सराय में कोविड टेस्टिंग सेंटर बनाया गया है। यहां रोजाना 150 से 200 कोरोना के संदिग्ध मरीज जांच करवाने पहुंचते हैं। सेहत विभाग ने इसी सराय में कोविड टेस्टिंग सेंटर के साथ डेंगू वार्ड भी बना दिया गया है। जहां कोरोना के संदिग्ध लोगों के सैंपल लिए जाते हैं वार्ड उससे बिलकुल सटा हुआ है। वार्ड में 12 बेड लगाए गए हैं। हालांकि अभी इस वार्ड में डेंगू का एक भी मरीज भर्ती नहीं है और दरवाजे पर ताला लगा हुआ है। सेहत विभाग के अधिकारियों का कहना है कि डेंगू का कोई भी मरीज सिविल अस्पताल आया तो उसे इसी वार्ड में भर्ती किया जाएगा। अगर ऐसा होता है, तो डेंगू के मरीजों के साथ उनके स्वजनों के कोरोना की चपेट में आने का खतरा हो सकता है।

इसलिए फैल सकता है संक्रमण

1.डेंगू वार्ड और कोरोना टेस्टिंग सेंटर का वेटिंग एरिया एक है।

2. वेटिंग एरिया के पास ही सेहत कर्मी कोरोना संदिग्धों के सैंपल लेते हैं। सैंपलिंग में इस्तेमाल होने वाले गलब्ज और अन्य बायोमेडिकल वेस्ट भी बैग्स में यहीं पड़े होते है।

3. आते व जाते समय डेंगू मरीजों के स्वजन किसी कोरोना पाजिटिव के संपर्क में आ सकते हैं।

डेंगू मरीज आने पर टेस्टिंग सेंटर करेंगे शिफ्ट : एसएमओ

एसएमओ डा. अमरजीत कौर का कहना है कि पिछले साल डेंगू वार्ड दूसरी जगह था। सराय में कोविड केयर सेंटर था। जुलाई में डेंगू वार्ड को सराय में शिफ्ट किया गया है। फिलहाल सिविल अस्पताल में डेंगू के मरीज नहीं हैं। जब डेंगू के मरीज आने शुरू होंगे तो कोरोना टेस्टिंग सेंटर को दूसरी जगह शिफ्ट कर देंगे।

डेंगू के दो मरीज आए सामने

जिले में मंगलवार को डेंगू के दो और मरीज सामने आए हैं। डेंगू के मरीजों की अब कुल संख्या 76 तक पहुंच गई है। सेहत विभाग के अनुसार जिले में डेंगू से किसी की जान अभी तक नहीं गई है।

कोरोना पाजिटिव दो केस मिले

वहीं, कोरोना के भी जिले में दो पाजिटिव मिले हैं। जिले में अब कोरोना के सक्रिय केस 30 बचे हैं। इनमें से 27 संक्रमित होम आइसोलेशन में हैं।

Edited By: Vinay Kumar