लुधियाना/नई दिल्ली, [आनलाइन डेस्क]। कृषि सुधार कानूनों को लेकर पंजाब से लेकर दिल्ली तक सियासत गर्मा गई है। बुधवार काे संसद के गेट पर प्रदर्शन कर रहीं शिअद सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल (Former Union Minister Harsimrat Kaur Badal) और कांग्रेस के लुधियाना से सांसद रवनीत सिंह बिट्टू (Ludhiana MP Ravneet Singh Bittu) के बीच जोरदार भिड़ंत हो गई।

दरअसल सांसद बिट्टू ने अकाली दल (Akali Dal) के सांसदों के विरोध प्रदर्शन को ड्रामा करार देते हुए कहा कि हरसिमरत कौर ने ही केंद्रीय मंत्री रहते हुए यह बिल पास करवाए हैं।

नई दिल्लीः संसद भवन के बाहर बहस करते रवनीत बिट्टू व हरसिमरत काैर बादल। (एएनआइ)

इस पर हरसिमरत भड़क गईं और पूछा कि जब कृषि कानून पास हो रहे थे, तब राहुल गांधी और सोनिया गांधी कहां थे। इसी को लेकर दोनों के बीच काफी देर तक बहस होती रही। माैके पर काफी देर तक माहाैल काफी तनावपूर्ण बना रहा।

पंजाब के किसान दिल्ली में दे रहे धरना

गाैरतलब है कि पंजाब के किसान पिछले कई महीनाें से दिल्ली में माेदी सरकार के खिलाफ कृषि सुधार कानूनाें काे रद करने की मांग काे लेकर धरने पर बैठे हैं। लुधियाना के सांसद रवनीत बिट्टू हाल में भी विवादों में रहे हैं। पवित्र सीटों वाले बयान पर माफी मांग चुके हैं। किसान आंदोलन में इन पगड़ी उतार दी गई थी।

सिंघु बार्डर पर किसानाें ने बिट्टू का किया था विराेध

नए कृषि सुधार कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर सिंघु बार्डर पर चल रहे आंदोलन के समर्थन में आयोजित किसान संसद में पिछले दिनाें पंजाब के लुधियाना के कांग्रेसॉ सांसद रवनीत सिंह बिट्टू को लोगों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा था। बि्ट्टू का आराेप था कि किसान आंदाेलन काे कुछ लाेगाें ने हाइजैक कर लिया है।

यह भी पढ़ें-हरियाणा के किसान नेता चढूनी की सियासी आकांक्षा अब पंजाब में जागी, कहा- 2022 चुनाव में सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे

 

Edited By: Vipin Kumar