लुधियाना, [अर्शदीप समर]। यूथ अकाली को अपग्रेड करने के लिए शिरोमणि अकाली दल फिर एक बड़ा बदलाव करने की तैयारी कर रहा है। जिला यूथ अकाली दल को एकजुट करने के लिए एक ही प्रधान की नियुक्ति को लेकर चर्चा शुरू हो गई है।

इसके लिए शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल और यूथ अकाली दल सीनियर नेता एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने जिले के कई सीनियर नेताओं से इसको लेकर सुझाव भी मांगा है। अगर जिला यूथ अकाली दल में एक ही प्रधान नियुक्त किया जाए तो उसकी जिम्मेदारी अधिक बढ़ जाएगी। इससे एक तो गुटबाजी खत्म होगी और सभी कार्यकर्ता एक ही प्रधान के साथ मिलकर पार्टी का काम करेंगे। जिससे शिअद को अधिक मजबूती मिल सकती है।

पिछले कुछ सालों से यूथ अकाली दल के प्रधान को लेकर कई प्रकार के प्रयोग किए गए हैं। शिरोमणि अकाली दल ने सत्ता में रहते हुए करीब पांच साल पहले जिला यूथ अकाली दल को तीन भागों में बांट दिया गया था। इसमें यूथ अकाली दल-1 का प्रधान बलजीत सिंह, यूथ अकाली दल-2 प्रधान गुरदीप सिंह गोशा और यूथ अकाली दल-3 प्रधान गुरप्रीत सिंह बब्बल को नियुक्त किया गया था। दो साल पहले जिला यूथ अकाली दल की कार्यकारणी कमेटी को भंग कर दोबारा जिले के दो प्रधान नियुक्त किए गए। इसमें यूथ अकाली दल-1 का प्रधान मीतपाल सिंह दुगरी और यूथ अकाली दल-2 प्रधान गुरदीप सिंह गोशा को नियुक्त किया गया था।

कांग्रेस में जिला शहरी का है एक ही प्रधान

कांग्रेस ने हमेशा जिला शहरी यूथ प्रधान एक ही नियुक्त किया है। हालांकि जिला यूथ कांग्रेस प्रधानगी को लेकर कांग्रेस पार्टी चुनाव करवाती है। इससे कई बार यूथ कांग्रेसी आपस में भी भिड़ जाते हैं।

प्रधानगी को लेकर शुरू की दावेदारी

यूथ अकाली दल में जल्द ही नए प्रधानों की नियुक्ति की जाएगी। इसको लेकर युवाओं ने भी कमर कसनी शुरू कर दी है, ताकि धीरे-धीरे उनकी दावेदारी मजबूत हो सके। जिले के सीनियर नेता युवाओं की सूची तैयार कर हाईकमान को भेजने में जुटे हुए हैं। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!