लुधियाना, जेएनएन। सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआइ) की टीम ने मंगलवार को देश भर में बैंकों से लोन लेकर वापस न करने वाले डिफाल्टरों के ठिकानों पर ताबड़तोड रेड की। इसी क्रम में लुधियाना में भी शराब कारोबारी एवं टेक्सटाइल प्रमुख औद्योगिक घरानों के परिसरों पर दबिश देकर दस्तावेज खंगाले। सुबह से शाम तक चली कार्रवाई में उद्यमियों के स्वजनों, मुलाजिमों से पूछताछ भी की गई। दिल्ली से आए सीबीआइ के अधिकारी सुबह ही रेड के लिए पहुंच गए थे। खबर लिखे जाने तक ब्यूरो की कार्रवाई जारी थी। फिलहाल अफसरों ने किसी भी तरह की जानकारी देने से इन्कार कर दिया।

दिल्ली से आई टीम ने शादी में जाने की बात कहकर टैक्सी स्टैंडों से 20 टैक्सियां मंगवाई थीं। टीम ने तौलिए एवं यार्न बनाने वाले टेक्सटाइल ग्रुप के जीटी रोड स्थित इकाई एवं सराभा नगर में निवास के अलावा कई ठिकानों पर छापेमारी की। ग्रुप ने देश के बैंकों से करोड़ों का कर्ज लिया है, लेकिन वापस नहीं किया। साथ ही फंड को दुबई और अन्य जगहों में डायवर्ट कर दिया। दस्तावेजों में हेराफेरी करके सरकारी इंसेंटिव भी हासिल किए हैं। बैंकों ने इस संबंध में भारतीय रिजर्व बैंक में भी शिकायत कर रखी थी। ग्रुप ने कई बैंकों से कारोबार के लिए ऋण लिया और फंड को कारोबार में लगाने की बजाए इधर-उधर कर दिया। कुछ फर्जी यूनिट बनाकर भी लोन लिया गया, जिसकी जांच की जा रही है। सीबीआइ अधिकारियों ने ग्रुप की संपत्ति, कारोबारी लेन देन, निर्यात समेत तमाम दस्तावेजों को बारीकी से खंगाला। सीबीआइ के अधिकारी पिछले कुछ माह से बैंकों के साथ औद्योगिक घरानों की ओर से की हेराफेरी की जांच कर रहे हैं। उसी जांच के आधार पर मंगलवार को औद्योगिक घरानों के ठिकानों पर छापामारी की कार्रवाई को अंजाम दिया गया।

शराब कारोबारी चन्नी के घर से जब्त किया रिकार्ड

सीबीआइ की टीमों ने शराब कारोबारी के ठिकानों पर भी कार्रवाई की। शराब कारोबारी बजाज ग्रुप के संचालक चरणजीत ङ्क्षसह चन्नी बजाज के सराभा नगर समेत तमाम ठिकानों पर रेड की। देर शाम तक सीबीआइ की कार्रवाई जारी थी। सूत्रों के अनुसार ग्रुप ने बैंकों से लोन लेकर वापस नहीं किया। चन्नी बजाज के घर से शाम साढ़े पांच बजे निकले एक अधिकारी ने बताया कि कुछ रिकार्ड जब्त किया गया है, जिसकी रिपोर्ट उन्होंने दिल्ली हेडक्वार्टर को देनी है। उन्होंने बताया कि लुधियाना में दस जगह पर रेड की गई है। कौन-कौन सी जगहों पर रेड की गई यह बताने से इन्कार कर दिया।

सुबह पांच बजे बुलाकर कहा लोकल ही शादी में चलना है

सीबीआइ की रेड में शामिल टैक्सियों को विवाह में जाने के लिए कहकर मंगवाया गया था। सराभा नगर में एक कोठी के बाहर मौजूद टैक्सी ड्राइवर ने बताया कि उनको यह कहा गया था कि विवाह समारोह में जाना है, लेकिन यह नहीं पता था कि अधिकारी रेड करने के लिए आए हैं। सीबीआइ ने करीब बीस कारों को हायर किया था। ये टैक्सियां अलग-अलग स्टैंड से ली गई थीं। टैक्सी ड्राइवरों के अनुसार उनको सुबह साढ़े पांच बजे ही बुलाया गया था। उन्हें कहा गया था कि कारें लोकल ही शादी में जानी हैं।

एक महिला अधिकारी समेत टीम के 20 सदस्य आए हैं

एक टैक्सी चालक के मुताबिक जब अधिकारी गाड़ी में बैठे और शहर में घुमाते रहे तो अहसास हुआ कि कोई अफसर हैं। एक ड्राइवर ने बताया कि दो दर्जन से ज्यादा सदस्य पहुंचे हैं, जिनमें एक महिला बाकी पुरूष हैं। सीबीआइ ने रेड के दौरान दो सरकारी गाडिय़ों का ही उपयोग किया। बाकी सभी टैक्सियां थीं।

ऐसे गुप्त रखी गईं जानकारियां

कार में बैठे अफसर आपस में फोन पर बात नहीं कर रहे थे।

जानकारियों का आदान-प्रदान वाट्सएप पर कर रहे थे।

कहीं भी जाने के लिए वाट्सएप लोकेशन ही दी जाती थी।

ड्राइवर को भी जगह के बारे में नहीं बताया गया था।

Posted By: Vikas Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!